Right News

We Know, You Deserve the Truth…

सीबीएसई की राह पर चलेगा हिमाचल

जमा दो के छात्रों की परीक्षा का फैसला भी अब सीबीएसई की तर्ज पर हिमाचल लेगा। अगर सीबीएसई बोर्ड ने दसवीं की तर्ज पर जमा दो के छात्रों को भी प्रोमोट करने का फैसला लिया तो इसी फार्मूले को स्कूल शिक्षा बोर्ड व शिक्षा विभाग अपनाएगा।

दरअसल सीबीएसई के तहत पढऩे वाले जमा दो के छात्रों को प्रमोट करने की चर्चाए बुधवार को खुब होती रही। बताया जा रहा है कि कई अभिभावकों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है।

इस याचिका में मांग उठाई है कि कोरोना की इस स्थिति में छात्रों की परीक्षाएं करवाना किसी चुनौती से कम नहीं है। ऐसे में दसवीं औा जमा दो के छात्रों को भी सीबीएसई को प्रोमोट कर देना चाहिए, ताकि समय पर स्कूल प्रबंधन साल भर हुई आंतरिक परीक्षा के आधार पर छात्रों की मैरिट तैयार कर सकें।

हालांकि इस पर अभी सुप्रीम कोर्ट ने कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया है। इसके साथ ही केंद्र सरकार ने भी सीबीएसई की परीक्षा पर कोई फैसला अभी नहीं किया है।

शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मानें तो राज्य में सीबीएसई के फार्मूले को अपनाया जाएगा। अगर सीबीएसई जमा दो को प्रोमोट करती है, तो विभाग भी सरकार को इस बाबत प्रोपोजल भेजेगा।

विभाग का दावा है कि वह जमा दो के छात्रों की परीक्षा पर हर फैसला सरकार के मानने को तैयार है। उनका कहना है कि अगर जमा दो के छात्रों को प्रोमोट करने पर सरकार निर्णय लेती है, तो इंटरनल असेस्मेंट के आधार पर छात्रों को प्रोमोट कर दिया जाएगा।

इसके साथ ही अगर परीक्षा करवानी होगी, तो उसके लिए भी विभाग ने तैयारियां कर ली हैं। उल्लेखनीय है कि अभी तक प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के तहत पढ़ने वाले दसवीं के छात्रों को ही अभी प्रोमोट किया गया है।

इसके साथ ही जमा दो के छात्रों पर कोई फैसला नहीं हुआ। इससे करीब डेढ़ लाख छात्रों में असंमजस की स्थिति है।

बता दें कि शिक्षा विभाग के पास इस समय जमा दो की दो कक्षाएं है। इसमें एक ओल्ड व दूसरी नई। यानी जिन छात्रों ने अभी जमा दो में दाखिला लिया है।

उनकी भी पढ़ाई शुरू हो गई है। इसके अलावा जिसे ओल्ड कक्षा का नाम दिया है, उन छात्रों की पढ़ाई ढंग से नहीं हो रही है।

error: Content is protected !!