हजारों लोग बने सराज के देवता चुंजवाला की कोठी प्रतिष्ठा के गवाह

सराज विधानसभा क्षेत्र के आराध्य देवता चुंजवाला की नवनिर्मित कोठी स्थिती शिवाडी की प्रतिष्ठा देव रस्मों के साथ संपन हुई । इस प्रतिष्ठा में क्षेत्र के हजारों लोगों ने हाजरी भर इस कोठी की प्रतिष्ठा के गवाह बने । काष्ठकुण व स्लेटपोषा शैली में बनाई गयी इस ढाई मंजिला कोठी में कास्टकला के हजारों चित्र को इस कोठी के हर स्थान लकड़ी पर अदभूत पूर्व प्रकार से चित्रत्र किया गया है ।

समुद्रतल से 8000 उंचाई पर स्थित इस कोठी के निर्माण के लिए देवदार व अन्य इमारती लकड़ीयों का उपयोग किया गया है जिसमें सैंकड़ों देवी देवताओं के चित्रों को चित्रित भी किया है । आराध्य देवता चुंजवाला के सात हारीयान के श्रमदान उपरांत इस भव्य कोठी निर्माण के लिए एक करोड़ रूप्ये से भी अधिक का निर्वाहन हुआ है । देवता कमेटी सात हारीयान के अध्यक्ष देव राज ने बताया कि इस कोठी के निर्माण के लिए लोगों ने जहां श्रम दान के साथ आर्थिक सहयोग दिया है तो वहीं श्रदालुओं ने खुलकर दान भी किया है जिसके बावजूद इस कोठी का निर्माण संभव हुआ है ।

उन्होंने बताया कि इस कोठी में देवदार के अलावा अन्य इमारती लकड़ीयों का उपयोग हुआ है जिसमें कई प्रकार के चित्र चित्रित्र कर सर्वसंपन दर्शन करवाने का प्रयास भी किया है । प्रतिष्ठा के लिए सात हारीयान के रिश्तेदारों के साथ क्षेत्र के दर्जनों देवताओं को भी निमंत्रण दिया गया है । इस प्रतिष्ठा में देर शाम तक पंरम्परागत देव रस्मों के साथ देव कोठी की प्रतिष्ठा की जाएगी तो वहीं मंलगवार को धाम का आयोजन किया जाएगा। जिसमें हजारों लोग भाग लेने की संभावना है ।

वहीं इस कोठी के कारीगीर चमारू राम ने बताया कि इस कोठी के निर्माण के लिए तीन वर्ष से भी अधिक का समय लगा है ऐसे में इस कोठी में कई प्रकार के कलाकृतियों के साथ देवी देवताओं के चित्र को भी चित्रित किया गया है । उन्होंने इस कोठी के निर्माण को लेकर व आराध्य देवता कमेटी चुंजवाला के सात हारीयान के साथ व उनकी टीम को भी इसका श्रैय जाता है । उन्होंने कहा आराध्य देवता की अन्य कोठियां भी है लेकिन इस तरह की कोठी बनने इस कोठी का नाम भी ऐतिहासिक पन्नों पर रह जाएगा ।

Please Share this news:
error: Content is protected !!