Treading News

रोहरू डेथ केस: जिसे समझ रहे थे हादसा वो निकला मर्डर केस

Himachal Pradesh News, जिला शिमला में बडियारा के समीप 13 जून को पब्बर नदी से बरामद हुए समोली निवासी नरेन्द्र कुल्ला के शव के मामले में डीएसपी रोहड़ू चमन लाल ने दो लोगों को हिरासत में लिया है।

शनिवार रात को हुई इन दो गिरफ़्तारियों से पहले पुलिस व स्थानीय लोग इसे शराब के नशे में हुई दुर्घटना मान रहे थे। 13 जून को चिड़गांव पुलिस ने बडियारा के समीप से समोली निवासी नरेन्द्र कुल्ला का शव बरामद किया था। पचस वर्षीय नरेन्द्र अकसर शराब के नशे में रहता था। इसलिए लोग मान रहे थे कि नरेन्द्र शराब के नशे में बडियारा की तरफ गया होगा और सड़क से नदी में गिर गया होगा, जिससे उसकी मौत हो गई।

जिस दिन नरेन्द्र का शव बरामद हुआ उस दिन डीएसपी रोहडू चमन लाल छुट्टी पर थे। शनिवार को जब डीएसपी अपने आफिस आए तो मृतक नरेन्द्र के परिजनों ने मामले की छान बीन करने की गुहार लगाते हुए नरेन्द्र की हत्या होने का संदेह जताया। जिसके तुरंत बाद डीएसपी ने मामले की छान बीन शुरू की तो 24 घंटे के अंदर मामले का पर्दाफ़ाश कर दिया। डीएसपी चमन लाल ने इस मामले में समोली में स्विमिंग पूल के मालिक कपिल व उसके पास काम करने वाले नेपाली महेश को हिरासत में लिया। पूछताछ में दोनों ने नरेन्द्र की हत्या की बात स्वीकार कर ली। आरोपितों ने बताया कि उन्होंने ही नरेन्द्र के शव को बडियारा के समीप से नदी में फेंक दिया था।

डीएसपी चमन लाल ने बताया कि नरेन्द्र ने 12 जून की रात को कपिल के स्विमिंग पूल पर शराब पी थी और तब कपिल ने उसे समोली तक ड्राप कर दिया था। 13 जून की सुबह नरेन्द्र फिर पूल पर पहुंच गया जहां पर उसका झगड़ा हो गया। इस दौरान नरेन्द्र की मौत हो गई। जिसके बाद नेपाली महेश की

मदद से कपिल नरेन्द्र के शव को तिरपाल में लपेट कर अपनी गाड़ी आल्टो से बडियारा के समीप ले गए और पब्बर नदी में फेंक कर लौट आए।

डीएसपी का कहना है उन्हें कपिल की गाड़ी की वह सीसीटीवी फुटेज भी मिल गई है, जिसमें उसकी गाड़ी बडियारा की तरफ जाती हुई दिखती है और पांच मिनट में लौटती हुई भी दिख रही है। उन्होंने बताया कपिल व महेश को गिरफ़्तार कर लिया गया है और न्यायालय में पेश किया जाएगा।

Comments: