सरकार उपचुनाव में मिली हार का मंथन करने निकली है या फिर आम जनता की जिंदगी ध्वस्त करने- कुमारी वंदना

हिमाचल कांग्रेस के पदाधिकारियों ने कोरोना के चलते परौर में 10 जनवरी को होने वाली विशाल जनसभा पर विरोध जताना शुरू कर दिया है। सोशल मीडिया पर आम जनता भी इस विशाल जनसभा पर सवाल उठा रही है। उनका सबसे बड़ा सवाल है कि जब प्रदेश में स्कूल कॉलेज बंद कर दिए गए है तथा नाईट कर्फ्यू लगा दिया गया है तो ऐसे हाल में प्रदेश की जनता को कोरोना के मुंह में क्यों धकेला जा रहा है। कई सोशल मीडिया दिग्गजों ने सरकार की कार्यप्रणाली पर कई तरह के प्रश्न चिन्ह लगा दिए है।

इस बारे कांग्रेस सोशल मीडिया सह संयोजक सुलह विधानसभा क्षेत्र कुमारी वंदना का कहना है कि 10 जनवरी को सुलह विधानसभा के परौर में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और यहां के स्थानीय नेता विपिन सिंह परमार भारी भीड़ व जनसभा को संबोधित करने वाले हैं व सब को सपरिवार आने का न्यौता दे रहे है। वह आम जनता को विशाल जनसभा में खाना खाने व खाना पैक करके घर ले जाने का साथ निमंत्रण दे रहे है। जबकि दूसरी तरफ मुख्यमंत्री नाइट कर्फ्यू लगाकर 50% से ज्यादा भीड़ इक्कठी ना करने की गाइडलाइम्स जारी कर रहे है। उन्होंने कहा कि करोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या देखते हुए हिमाचल प्रदेश में लोकडॉन जैसे हालात बन चुके है। जानकारी के मुताबिक 1 सप्ताह में 7 गुना संक्रमण बढा़ है एक्टिव केस 2000 से ज्यादा हो चुके है। करोना की वजह से स्कूल बंद कर दिए गए है, जिसका सीधा असर विद्यार्थियों की शिक्षा पर पड़ रहा है। अगर कांग्रेस ने अपने सभी जन जागरण अभियान भर रैलियां रद्द कर दी हैं तो फिर भाजपा किस मुंह से एक जिले से दूसरे जिले में इस तरह के भीड़ इकट्ठा करके जनसभाएं कर रही है। उन्होंने भाजपा सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए पूछा है कि क्या हिमाचल प्रदेश सरकार उपचुनाव में मिली हार 4-0 का मंथन करने निकली है या फिर आम जनमानस के जन जीवन को पूरी तरह से ध्वस्त करने पर तुली है।

कुमारी वंदना ने कहा है कि पहले साल भी करोना महामारी दोनों लहर की वजह से हमने बहुत से लोगों को खोया है, सबसे ज्यादा सुलह विधानसभा क्षेत्र में मौतें हुई है। क्या संवैधानिक पद पर बैठे हुए नेता की इतनी भी जिम्मेदारी नहीं है कि जनता की सुरक्षा को एक साथ भीड़ इकट्ठी करके जोखिम में ना डाले। कोई भी योजना व कोई भी उद्घाटन वर्चुल ऑनलाइन के माध्यम से अधिक किया जा सकता है। कुमारी वंदना इस विशाल जनसभा के आयोजन की कड़ी निंदा की है।

Please Share this news:
error: Content is protected !!