Treading News

लड़की का पीछा करने, फब्तियां कसने और मारपीट करने वाले युवक को न्यायालय ने सुनाई 3 साल की सजा

मंडी। विशेष न्यायाधीश (पोक्सो), जिला मण्डी, हिमाचल प्रदेश, की अदालत ने नाबालिग का पीछा करने और मारपीट के  दोषी को विभिन्न धाराओं में कारावास  के साथ जुर्माने की सजा सुनाई। जिला न्यायवादी, मण्डी कुलभूषण गौतम ने बताया कि दिनांक 23/12/2021 को पीड़िता (16 वर्ष) ने पुलिस थाना बल्ह में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि वह एक स्कूली छात्रा है और घर से स्कूल के लिए पैदल जाती है। दिनांक 22/12/2021 को जब पीडिता स्कूल पहुची तो स्कूल खुलने से पहले विशाल पुत्र रणजीत सिंह, गाँव डुंगराई ने पीडिता को एक अन्य लड़की के साथ संदेश देकर स्कूल के बाहर बुलाया पर पीडिता स्कूल से बाहर नहीं गयी।

उसके बाद 23/12/2021 जब पीडिता 8:40 पर स्कूल पहुची तो विशाल ने पीडिता को फिर उसी लड़की के माध्यम से स्कूल के बाहर बुलाया और उसके कहने पर पीडिता अपनी सहेली के साथ स्कूल के गेट के पास गयी जहाँ पर दोषी पहले से ही खड़ा था जिसने कि पीडिता को गले से पकड़ कर थप्पड़ मारा, तभी पीडिता की सहेली ने स्कूल के अंदर से किसी अध्यापक को बुलाया। अध्यापक को आता देख दोषी ने पीडिता को दो- तीन और थप्पड़ मारे और वहां से भाग गया।

पीडिता ने यह भी बताया कि उक्त दोषी उसको इससे पहले भी तंग करता था और अकेली देखकर पीछे से ऊँचे स्वर में आवाजें लगता था। पीडिता के उक्त बयान के आधार पर पुलिस थाना बल्ह में दोषी के खिलाफ अभियोग 421/21 दर्ज हुआ था। इस मामले की छानबीन सहायक उप निरीक्षक लाल चंद, ने अमल में लायी थी, छानबीन पूरी होने पर थानाधिकारी बल्ह  द्वारा मामले के चालान को अदालत में दायर किया था।

उक्त मामले में अभियोजन पक्ष ने अदालत में 12 गवाहों के ब्यान कलम बन्द करवाए थे। उक्त मामले में सरकार की तरफ से मामले की पैरवी तत्कालीन विशेष लोक अभियोजक, विनोद चौधरी और लोक अभियोजक नवीन राही द्वारा की गयी। अभियोजन एवं बचाव पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने दोषी विशाल को भारतीय दण्ड सहिंता की धारा 354D के तहत 3 वर्ष के साधारण कारावास की सजा के साथ ₹5,000/- के जुर्माने की सजा, भारतीय दण्ड सहिंता की धारा 294 के तहत 3 महीने के साधारण कारावास की सजा के साथ ₹500/- के जुर्माने की सजा, भारतीय दण्ड सहिंता की धारा 355 के तहत 2 वर्ष के साधारण कारावास की सजा के साथ ₹5,000/- के जुर्माने की सजा, भारतीय दण्ड सहिंता की धारा 506के तहत 6 महीने के साधारण कारावास की सजा के साथ ₹500/- के जुर्माने की सजा और पोक्सो अधिनियम की धारा 12 के तहत 3 वर्ष के साधारण कारावास की सजा के साथ ₹5,000/- के जुर्माने की सजा सुनाई।  जुर्माना अदा न करने की सूरत में अदालत ने दोषी को 15 दिन 3 माह के अतिरिक्त कारावास की सजा भी सुनाई। सुनाई गयी सभी सजाएँ साथ साथ चलेंगी।