बिना ऑक्सीजन गेट पर तोड़ा दम गगरेट से टांडा लाए जा रहे मरीज को 108 एंबुलेंस में नहीं मिली पूरी सुविधा

कोरोना काल में एक कोरोना पॉजिटिव मरीज की ऑक्सीजन की कमी ने सासें उखाड़ दी। गंभीर अवस्था में मरीज को 108 एंबुलेंस से टीएमसी शिफ्ट किया जा रहा था कि मरीज के साथ गए अटेंडेंट का आरोप है कि कांगड़ा टनल से पहले ही एंबुलेंस में उपलब्ध करवाई गई ऑक्सीजन खत्म हो गई। हालांकि अटेंडेंट ने अपने मुंह से मरीज को ऑक्सीजन देकर उसके प्राण बचाने का प्रयास किया, लेकिन जब एंबुलेंस टीएमसी के मुख्य गेट पर पहुंची तो मरीज ने प्राण त्याग दिए। यह मौत महामारी में पनपने लगी अव्यवस्था पर सवाल खड़े कर गई है। कोरोना वायरस जैसी महामारी में मेडिकल ऑक्सीजन ही ऐसी दवा बनकर उभरी है, जो कोरोना पॉजिटिव मरीजों के लिए वरदान साबित हो रही है। देश के कई राज्यों में ऑक्सीजन की कमी से कैसे हाहाकार मचा यह भी सबने देखा, लेकिन हिमाचल प्रदेश जहां ऑक्सीजन की कमी न होने के दावे किए जा रहे थे वहां एक मरीज की जान महज ऑक्सीजन की कमी से चले जाना लचर होती जा रही व्यवस्थाओं पर चोट है। उपमंडल गगरेट के कैलाश नगर के एक 35 वर्षीय युवक को कोरोना होने से उसकी हालत बिगड़ गई। परिजनों ने उसे डीसीएचसी हरोली में भर्ती करवाया गया।

 यहां पर उसकी हालत स्थिर न होने पर उसे डा. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज टांडा रैफर किया गया। नौ मई रात मरीज को उनके अटेंडेंट अंकुश के साथ 108 में टांडा के लिए रवाना किया गया। एंबुलेंस में दो ऑक्सीजन सिलेंडर तो थे, लेकिन इनमें से एक आधा था और परागपुर के पास पहुंचते ही एक सिलेंडर खत्म हो गया। तभी एंबुलेंस के अटेंडेंट ने देहरा में एक अन्य एंबुलेंस से एक सिलेंडर लिया, लेकिन इसमें भी कम ही ऑक्सीजन बची थी। थोड़ी देर बाद यह सिलेंडर भी खत्म हो गया और कांगड़ा टनल से पीछे ही एंबुलेंस में ऑक्सीजन खत्म हो गई। जिस पर वह अपने मुंह से मरीज को सांसे देने का प्रयास करने लगा। उधर, एंबूलेंस के अटेंडेंट प्रदीप कुमार का कहना है कि मरीज का एसपीओ 2 पहले ही 46 था और मरीज के अटेंडेंट ज्यादा मात्रा में ऑक्सीजन छोड़ रहे थे , जिससे ऑक्सीजन वेस्ट हो रही थी। हालांकि उन्होंने प्रयास किए और देहरा से एक और सिलेंडर उपलब्ध करवाया, लेकिन ऑक्सीजन खत्म हो गई।  डीसी राघव शर्मा का कहना है कि 108 प्राइवेट कंपनी द्वारा संचालित की जाती है और वह उनसे बात करेंगे। मृतक के परिजन उन्हें अगर लिखित शिकायत दें तो कार्रवाई होगी।

error: Content is protected !!