श्री नैना देवी में बनेगा ग्लास ब्रिज, जल्द पूरा होगा उपायुक्त रोहित जम्वाल का सपना

Himachal News: विश्वविख्यात शक्तिपीठ श्रीनयनादेवी में ग्लास स्काई वॉक ब्रिज निर्माण के लिए रोप-वे एंड रैपिड ट्रांसपोर्ट सिस्टम डिवेलपमेंट कारपोरेशन की टीम ने सर्वे रिपोर्ट तैयार कर ली है। कारपोरेशन की ओर से डीपीआर तैयार की जाएगी, जिसके बाद अगली कार्ययोजना को अंतिम रूप दिया जाएगा। बिलासपुर के उपायुक्त रहे रोहित जम्वाल की सोच आज रंग लाई है। खास बात यह है कि देश में बिहार के बाद हिमाचल के नयनादेवी में यह दूसरा ग्लास स्काई वॉक ब्रिज बनेगा।

मंदिर न्यास की मीटिंग में इस प्रोजेक्ट को अप्रूवल मिलने के बाद रोहित जम्वाल, एसडीएम नयनादेवी सुभाष गौतम सहित अन्य अधिकारियों ने साइट विजिट किया था। इसी साल अप्रैल महीने में कारपोरेशन के जीएम व एजीएम सहित चार सदस्यीय टीम ने विजिट किया था और जल्द सर्वे करवाने के लिए आश्वस्त किया था, लेकिन कोरोना की वजह से यह प्रक्रिया बाधित हुई। अब शनिवार को कारपोरेशन के आर्किटेक्ट व इंजीनियर्ज की चार सदस्यीय टीम नयनादेवी पहुंची और मंदिर न्यास के अधिकारियों के साथ मौके का विजिट किया। साथ ही सर्वे कर रिपोर्ट भी तैयार कर ली है। अब डीपीआर भी कारपोरेशन की ओर से तैयार की जाएगी, जिसके बाद प्रशासन के साथ मीटिंग में चर्चा के बाद अगली कार्ययोजना को अंतिम रूप दिया जाएगा। मंदिर न्यास श्रीनयनादेवी के अध्यक्ष एवं एसडीएम सुभाष कुमार गौतम ने बताया कि ग्लास स्काई वॉक ब्रिज बनाए जाने के लिए कारपोरेशन के साथ टाईअप किया गया है। उन्होंने बताया कि यह ग्लास स्काई ब्रिज का ट्रैक 100 मीटर या इससे अधिक लंबा होगा।

मंदिर तक बनेगी लिफ्ट
एसडीएम सुभाष गौतम के अनुसार ग्लास स्काई वॉक ब्रिज के अलावा टैक्सी स्टैंड से लेकर मंदिर तक लिफ्ट निर्माण के अलावा पैराग्लाइडिंग एक्टिविटीज शुरू करवाना मुख्य प्राथमिकताओं में शुमार है। उपायुक्त रोहित जम्वाल के प्रयासों की बदौलत यह सभी प्रोजेक्ट आने वाले समय में सिरे चढ़ेंगे। अप्रैल में पैराग्लाइडिंग को लेकर विजिट हो चुका है। इसके अलावा विकलांग व्यक्ति मां नयना के दर्शन आसानी से हो सकेंगे, जिसके लिए लिफ्ट निर्माण की योजना पर काम चल रहा है।

Get delivered directly to your inbox.

Join 1,139 other subscribers

error: Content is protected !!