मोदी के इशारे पर नहीं अपने विवेक से सरकार चलाएं जयराम: सुक्खू

कांग्रेस विधायक व पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने हिमाचल प्रदेश में कोरोना के बिगड़ते हालात पर गहरी चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि सीएम जयराम ठाकुर पीएम नरेंद्र मोदी के इशारों पर नहीं अपने विवेक से सरकार चलाएं। कोविड महामारी से निपटने के लिए दिल्ली के आदेशों का इंतजार न करते रहें। बकौल सुक्खू, कोरोना की दूसरी लहर प्रदेश में पहले से अधिक कहर ढा रही है। रविवार को राज्य में सबसे ज्यादा मौतें महामारी से हुई हैं। प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी नहीं है, लेकिन अस्पतालों में ऑक्सीजन युक्त बेड पर्याप्त नहीं हैं। सरकार को पहली लहर से सबक लेते हुए अस्पतालों में ऑक्सीजन युक्त बेड व उपयुक्त संख्या में वेंटिलेटर के प्रबंध करने चाहिए थे। स्थिति बिगड़ने पर इन जीवनरोधी उपकरणों का प्रबंध किया जा रहा है। वह महामारी में इस संवेदनशील मुद्दे पर कोई राजनीति नहीं करना चाहते, लेकिन जनप्रतिनिधि के नाते सरकार को सुझाव देना व आगाह करना उनकी जिम्मेदारी है।

उन्होंने कहा कि अस्पतालों में जो वेंटिलेटर हैं, उन्हें संचालित करने के लिए पर्याप्त तकनीकी स्टाफ नहीं है। सरकार इसकी भी अविलंब व्यवस्था करे। प्रदेश सरकार के पास जीवनरोधी दवाओं का कितना स्टॉक है, यह भी तुरंत सार्वजनिक करना चाहिए। इसके साथ ही जिन दवाओं की कमी है, उन्हें स्टॉक में जल्दी पूरा करें। कोविड वैक्सीन की भी कमी नहीं होनी चाहिए। 1 मई से 18 से 44 साल के लोगों को भी टीकाकरण शुरू होना है, इसलिए वैक्सीन का पर्याप्त मात्रा में सरकार भंडारण करे। पंजीकरण कराने वालों को साथ के साथ वैक्सीन लगनी चाहिए, लंबी प्रतीक्षा सूची में न रखें। सुक्खू ने सीएम जयराम ठाकुर को सुझाव दिया कि संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए अधिक से अधिक सख्ती बरती जाए। कहीं भी अनावश्यक भीड़ जमा न होने दें। चोरी-छिपे हो रहे सामाजिक आयोजनों पर भी रोक लगे।

error: Content is protected !!