हाई कोर्ट के आदेशों को नही मानती शिमला पुलिस, सीटीओ पर पार्क करवा दी गाड़ियां

शिमला. हिमाचल प्रदेश की शिमला पुलिस (Shimla Police) पर फिर से सवाल खड़े हो रहे हैं. ऐसा लगता है शिमला पुलिस हाई कोर्ट के आदेशों को भी नहीं मानती है. गुरुवार शाम को मॉल रोड के साथ प्रतिबंधित मार्ग पर खड़ी गाड़ियों की कतार से यही नजर आ रहा था कि शिमला पुलिस हाई कोर्ट के आदेशों की परवाह नहीं करती. जिसे दिल किया उसे सुविधा अनुसार हर नियम कायदे में रियायत दी जा सकती है.

दरअसल, हिमाचल प्रदेश विधानसभा में अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन में हिस्सा लेने आए मेहमानों को मॉल रोड के दर्शन करने थे. मेहमानों के लिए आयोजकों ने गाड़ियों का प्रबंध किया गया था. ये गाड़ियां शाम को प्रतिबंधित मार्ग सीटीओ पर पहुंच गई, मेहमानों को ड्रॉप किया और गाड़ियां प्रतिबंधित मार्ग पर ही पार्क कर दी गईं. जहां पर एचआरटीसी की टैक्सियां रुकती हैं, वहीं पर 8 गाड़ियां सड़क किनारे पार्क की गई.

कोर्ट के सख्त आदेश हैं

हाई के सख्त आदेश हैं कि सीटीओ से लेकर एजी चौक तक रोड साइड गाड़ी पार्क नहीं हो सकती. इस प्रतिबंधित मार्ग पर आपातकालीन वाहनों को छोड़कर बिना किसी अनुमति या पास के गाड़ियां नहीं चल सकतीं, जिन गाड़ियों को पास जारी होते हैं, वो गाड़ियां भी इस मार्ग पर पार्क नहीं की जा सकती.

पुलिस की चुप्पी

इन गाड़ियों को देखकर शहरवासी हैरान थे कि आखिर कैसे यहां पर गाड़ी पार्क करने की इजाजत दी गई. सरेआम हाई कोर्ट के आदेशों की धज्जियां उड़ाई गईं. इस मामले पर शिमला पुलिस के मीडिया ऑफिसर डीएसपी कमल वर्मा और एसपी मोनिका भुटूंगरू से संपर्क किया गया लेकिन दोनों ने चुप्पी साध ली. मामले को लेकर कोई बात नहीं कही. यहां पर गाड़ियां पार्क करने पर चालान काटा जाता है. लेकिन इन गाड़ियों को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की गई.

Please Share this news:
error: Content is protected !!