भारी बरसात से लोक निर्माण विभाग के साढ़े सात करोड़ डूबे, विभाग ने भेजी रिपोर्ट

इस बार की बरसात ने लोक निर्माण विभाग को करोड़ों की चपत लगाई। जहां विभाग को इस बार की बरसात ने खासा परेशान किया। वहीं, आम लोगों पर भी यह बरसात भारी पड़ी। ऐसे में सबसे अधिक नुकसान गौरा सड़क, मशनु सड़क, तकलेच बाहली सड़क, तकलेच दरकाली सड़क, दारनघाटी सड़क, क्याव, कूट सड़क, पाजीधार व चंडी ब्रांडा व शिंटी कैंची से ठारला सड़क को पहुंचा है।

इस वर्ष की बरसात लोक निर्माण विभाग की 20 के करीब सड़कों को भारी नुकसान पहुंचा है। बरसात भले ही थम गई हो, लेकिन बरसात के जख्म अब दिख रहे हैं। ऐसी कोई सड़क नहीं है जहां पर नुकसान न हुआ हो। जो सड़क बरसात से पहले चकाचक थी, वहां पर डंगें गिर गए है, तो सड़कों पर गड्ढे पड़ गए है। इस बार जरूरत से अधिक बरसात होने से लाके निर्माण विभाग को करोड़ों रुपए का नुकसान उठाना पड़ रहा है। वहीं इससे इन सड़कों पर रोजाना चलने वाले लोगों को भी कई प्रकार की दिक्कतों का सामना करने को मजबूर होना पड़ रहा है।

ऐसे में विभाग ने भी नुकसान की रिपोर्ट तैयार कर उच्च अधिकारियों को शिमला भेज दी है, ताकि इसकी भरपाई के लिए निश्चित बजट स्वीकृत हो सके। लोक निर्माण विभाग ने जानकारी देते हुए कहा कि बरसात होने से कहीं पर विभाग के डंगे बह गए तो कहीं सीधा सड़कों को क्षति पहुंची है। वहीं, कहीं पर सड़कों पर भारी मात्रा मलवा व पत्थर गिरने से सड़क को काफी नुकसान हुआ है।

एनएच पर भी बरसात ने ढहाया कहर
इस बार की बरसात ने न केवल रामपुर की संपर्क सड़कों की हालत को खस्ता कर दिया बल्कि एनएच तक को बरसात ने काफी नुक्सान पहुंचाया। खासकर जिला किन्नौर को जोडऩे वाले एनएच पर तो इस बार बरसात कहर बनकर बरसी। यहां पर बरसात ने इतना नुक्सान पहुंचाया कि उससे उभरने में एनएच विभाग को समय लगेगा।

error: Content is protected !!