इस महीने स्कूलों के पाठ्यक्रमों में की जाएगी कटौती- गोविंद सिंह ठाकुर

प्रदेश के स्कूलों में पाठ्यक्रम कटौती इस माह यानी सितम्बर महीने में होगी। पाठ्यक्रम कटौती के उपरांत सिलेबस का प्रारूप आ जाएगा। पाठ्यक्रम कटौती में स्कूल शिक्षा बोर्ड की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

बोर्ड के अधिकारियों से पाठ्यक्रम कटौती पर विचार-विमर्श होगा। यदि लगता है कि हम सामान्य स्थिति की ओर बढ़ रहे हैं तो पाठ्यक्रम कटौती नहीं होगी। पाठ्यक्रम कटौती पर स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा बैठकें की जा रही हैं। अब सिर्फ 4 बैठकें ही शेष रहती हैं। इसी को लेकर बुधवार को शिक्षा बोर्ड में बैठक भी करेंगे। विद्यालयों को खोलने की इच्छा हमारी भी है, शिक्षकों की भी है। अभिभावक भी चाहते हैं कि बच्चे स्कूल जाएं लेकिन बच्चों के जीवन से खिलवाड़ भी नहीं किया जा सकता है। 10वीं, 11वीं व 12वीं के विद्यार्थियों के लिए स्कूल खोलने पर 4 सितम्बर को रिव्यू किया जाएगा। धर्मशाला में शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर ने ये बातें कहीं।

स्टार्स प्रोजैक्ट के तहत हिमाचल को मिलेंगे 650 करोड़ रुपए

शिक्षा मंत्री ने हिमाचल प्रदेश समग्र शिक्षा के तत्वावधान में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के क्रियान्वयन को लेकर जिला स्तरीय हितधारक परामर्श कार्यशाला में बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। कार्यक्रम की अध्यक्षता राज्य परियोजना निदेशक समग्र शिक्षा डॉ. वीरेंद्र शर्मा ने की। शिक्षा मंत्री ने प्रदेश के सभी जिलों में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को लेकर परामर्श कार्यशालाओं का आयोजन करने तथा स्टार्स प्रोजैक्ट का शुभारंभ किया। इसमें बच्चों की शुरूआती शिक्षा और अधिगम तथा इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूती प्रदान की जाएगी। इस प्रोजैक्ट के तहत लगभग 650 करोड़ रुपए हिमाचल को मिलेंगे। 5 वर्ष का प्रोजैक्ट होगा। गोविंद ठाकुर ने कहा कि अब तीसरी, 5वीं व 8वीं कक्षाओं की वार्षिक परीक्षाएं शिक्षा बोर्ड लेगा।

4 को लिया जाएगा स्कूल खोलने पर फैसला

शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर ने कहा कि कोरोना के मामलों को देखते हुए 4 सितम्बर को कैबिनेट की दोबारा बैठक करने के बाद प्रदेश के स्कूल खोले जाने पर निर्णय लिया जाएगा।

हितधारकों ने दिए सुझाव

प्रात:10 बजे शुरू हुई कार्यशाला में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के प्रदेश टास्क फोर्स सदस्य, जिला टास्क फोर्स सदस्य, प्रधानाचार्य, मुख्याध्यापक, खंड प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी, खंड स्त्रोत समन्वयक, बच्चों के अभिभावक, स्कूल प्रबंधन समिति के अध्यक्ष, पंचायतों के प्रधान, एनजीओ के सदस्य तथा डाईट प्रशिक्षुओं ने भाग लिया। राज्य परियोजना निदेशक डॉ. वीरेंद्र शर्मा ने प्रदेश में किए जा रहे राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के प्रयासों पर प्रस्तुति दी जबकि जिला परियोजना अधिकारी विनोद चौधरी ने जिले में किए गए प्रयासों पर प्रकाश डाला।

ये रहे मौजूद

इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में नगरोटा बगवां के विधायक अरुण कुमार मेहरा, शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डॉ. सुरेश कुमार सोनी, राज्य परियोजना निदेशक डॉ. वीरेंद्र शर्मा, उपनिदेशक उच्च शिक्षा रेखा कपूर, उपनिदेशक प्रारंभिक शिक्षा मोहिंद्र कुमार सहित करीब 150 हितधारकों ने भाग लिया।

error: Content is protected !!