अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति संयुक्त मोर्चा सराज ने मनाया परिनिर्वाण दिवस

आज अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति संयुक्त मोर्चा सराज ने बाबा साहब का परिनिर्वाण दिवस अम्बेडकर भवन जंजैहली के ढिम कटारू में मनाया। आज बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की 65वीं पुण्यतिथि है। बाबा साहेब अंबेडकर ने छह दिसंबर 1956 को अंतिम सांस ली थी। आज के दिन को ‘परिनिर्वाण दिवस के रूप में मनाया जाता है। संगठन के मीडिया प्रभारी मोहन लाल ने जानकारी देते हुए कहा कि अंबेडकर दलित वर्ग को समानता दिलाने के लिए जीवन भर संघर्ष करते रहे। उन्होंने दलित समुदाय के लिए एक ऐसी अलग राजनैतिक पहचान की वकालत की। देश में डॉ. अंबेडकर की याद में कई कार्यक्रम किए जाते हैं। बसपा से लेकर कांग्रेस, बीजेपी सहित तमाम राजनीतिक दल परिनिर्वाण दिवस के रूप में मनाते हैं। अंबेडकर डायबिटीज के मरीज थे। 6 दिसंबर 1956 को दिल्‍ली में उनका निधन हो गया था।

इस कार्यक्रम मे अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति विशाल सुधार समिति जिला मण्डी के उपाध्यक्ष सीता राम, तहसील थुनाग के अध्यक्ष पदम देव ,उपाध्यक्ष गोपाल, सचिव गोपाल सहगल, प्रधान ग्राम पंचायत बागाचनोगी गुमत राम, भीम आर्मी भारत एकता मिशन हिमाचल प्रदेश के संगठन सचिव पंकज, भीम आर्मी भारत एकता मिशन सराज के सचिव कमल आजाद, भीम आर्मी भारत एकता मिशन के जिला मण्डी के कार्यकारणी सदस्य घनश्याम, पूर्व प्रधान ग्राम पंचायत तूंगाधार जस्सी देवी, पूर्व सेवा निवृत वीडियो कांशी राम, झावे राम, वेदी राम गणेश दत्त व अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

Please Share this news:
error: Content is protected !!