देहरा के विधायक होशियार सिंह के खिलाफ एससी एसटी एक्ट में मुकदमा दर्ज

हिमाचल में जातिगत प्रताड़ना के मामले रुकने का नाम ही नही ले रहे। जहां आम आदमियों की बात अलग विधायक भी पीछे नही है। यह एक सोचने वाली बात है कि जहां एक विधायक भारतीय संविधान के खिलाफ काम करता हो वहां कानून की स्थिति कैसी होगी। जानकारी के मुताबिक यह घटना पिछले कल बुधवार की है, जब एक ड्राइवर को विधायक और उसके आदमियों ने सड़क पर मारा। ड्राइवर का कहना है कि मैं सुनहेत से टैंकर की सर्विस करवा कर घर लेकर जा रहा था। परमार पेट्रोल पंप से पीछे बर्षाशालिका के पास सामने से एक सफेद फार्च्यूनर तेज स्पीड में आई। मैंने टैंकर बाई ओर कर लिया। लेकिन ज्यादा स्पीड होने के कारण फार्च्यूनर टैंकर से लगती हुई आगे निकल गई। लेकिन कोई हादसा नही हुआ।

पीड़ित सुजीत सिंह

उसके बाद ड्राइवर में टैंकर को आगे बढ़ाया तो वह फार्च्यूनर पलट कर वापिस आ गई और कार को टैंकर के आगे लगा कर टैंकर को रोक लिया। गाड़ी का नंबर 0099 था।  उस फार्च्यूनर में विधायक होशियार सिंह, मोहित गर्ग और सुभाष चंद समेत छह लोग सवार थे। इससे पहले की टैंकर ड्राइवर कुछ समझ पाता उन लोगों ने उसको पकड़ कर टैंकर से बाहर खींच लिया। जब टैंकर का ड्राइवर सड़क पर गिरा तो विधायक समेत सभी लोगों ने उसको मारपीटा। इसी मारपीट के दौरान टैंकर ड्राइवर के खिलाफ जातिसूचक शब्दों का भी प्रयोग हुआ और विधायक होशियार सिंह में टैंकर के ड्राइवर को जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए जान से मारने की धमकी दी। विधायक को देख कर बाकी लोगों ने भी जातिसूचक शब्द बोले और टैंकर चालक को मारापीटा।

टैंकर चालक की शिकायत पर देहरा पुलिस में विधायक होशियार सिंह के खिलाफ आईपीसी की धारा 341,323, 504, 506 और 34 के साथ अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम की धारा 3 में मुकदमा दर्ज कर लिया है। इस मुकदमे के बारे जब पुलिस स्टेशन देहरा फ़ोन किया गया तो उन्होंने कोई भी जानकारी नही दी। पुलिस स्टेशन से प्राप्त डीएसपी और थाना प्रभारी को कॉल किया गया तो उनके नंबर नही लगे।

जानकारी मिली है कि उधर विधायक होशियार सिंह ने भी टैंकर चालक के खिलाफ आईपीसी की धारा 307 का मुकदमा दर्ज करवाया है। जबकि उनकी गाड़ी पूर्ण रूप से सुरक्षित है और किसी आदमी को कोई चोट नही लगी है।

Please Share this news:
error: Content is protected !!