उपचुनाव; विधानसभा उपाध्यक्ष हंस राज और विक्रमादित्य सिंह के बीच छिड़ा पोस्टर वॉर

शिमला। हिमाचल प्रदेश में आगामी उपचुनाव को लेकर सियासी बिगुल फूंका जा चुका है। जिसके चलते अब दोनों पार्टियों के नेता एक दूसरे पर जमकर निशाना साध रहे हैं।

विधानसभा उपाध्यक्ष हंसराज ने विक्रमादित्य पर तंज कसा है। दरअसल, विक्रमादित्य की ओर से सोशल मीडिया पर ‘वोट नहीं श्रद्धांजलि चाहिए’ पोस्ट शेयर किया गया था। जिसके ऊपर हंस राज ने सोशल मीडिया पर विक्रमादित्य सिंह के पोस्टर को जोड़ते हुए एक पोस्टर जारी किया है और लिखा, “लाश की राजनीति परिवार का संस्कार, राजनीतिक गिद्ध” । वहीं, साथ ही पूछा कि तय आप करके बताओ कि किसके संस्कारों में कमी है?

वहीं, विधानसभा उपाध्यक्ष ने लिखा कि वह एक गरीब नल फिटर के बेटे हैं। गरीब आदमी एक वक्त की रोटी कम खाता है, लेकिन अपने बच्चों को संस्कार और शिक्षा जरूर देता है। हंस राज ने बिना नाम लिए लिखा कि जब श्रद्धांजलि देने की बात थी तो तब कोरोना काल होने के बावजूद आम जनता से लेकर बीजेपी परिवार इनके साथ खड़ा रहा। जेपी नड्डा और सीएम जयराम ठाकुर कार्यक्रम में मौजूद रहे। आज चुनाव की बेला आते ही संस्कार दिखने लगा है। पिता की लाश पर राजनीति करने लगे हैं। गरीब मजदूर के बेटे जयराम जी के पिता का दिया ये संस्कार था कि आदरणीय वीरभद्र सिंह की अंतिम यात्रा में कोई कमी नहीं आने दी।

इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को लेकर भी विक्रमादित्य को घेरा। बीजेपी विधायक ने कहा कि सोनिया गांधी शिमला में हफ्तों रहकर चली गई, लेकिन श्रद्धांजलि देने आपके घर नहीं आई, लेकिन प्रेम कुमार धूमल के ही संस्कार थे कि अनुराग ठाकुर आपके घर पहुंच कर शोक के भागीदार बने।

विधानसभा के मॉनसून सत्र के दौरान कांग्रेस विधायकों ने राज्यपाल के अभिभाषण के बाद विधानसभा में जमकर हंगामा किया था। इस दौरान धक्का मुक्की भी हुई थी। डिप्टी स्पीकर पर धक्का मुक्की के आरोप लगाए गए थे। जिसके बाद बाद विक्रमादित्य ने हंसराज पर निशाना साधते हुए संस्कारों की कमी बताया था।

error: Content is protected !!