हिमाचल: उपायुक्त कार्यालय पहुंचे अभिभावक, रखी परीक्षाएं ऑनलाइन करवाने की मांग

शिमला। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला के सेंट एडवर्ड, सेक्रेड हार्ट और चेल्सी स्कूल के अभिभावकों ने डीसी ऑफिस शिमला में एडीएम से मुलाकात की। छात्र अभिभावक मंच ने शीतकालीन सत्र (winter session) के तहत चलने वाले स्कूलों को सिर्फ 10 से 15 दिन के लिए खोलने के निर्णय पर कड़ा विरोध जताया।

उन्होंने इसे प्रशासन व स्कूल प्रबंधनों की संवेदनहीनता करार देते हुए स्कूलों में वार्षिक परिक्षाएं (annual examinations) ऑनलाइन करने की मांग की।

छात्र अभिभावक मंच संयोजक विजेंद्र मेहरा ने कहा कि बच्चों ने पूरा साल ऑनलाइन पढ़ाई की है तो वार्षिक परीक्षाएं भी ऑनलाइन होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि 10-15 दिन की वार्षिक परीक्षाओं के बाद शिमला शहर के स्कूल शीतकालीन अवकाश के लिए फिर से तीन महीने के लिए फरवरी अंत तक बंद हो जाएंगे। सिर्फ वार्षिक परिक्षाओं के लिए स्कूल खोलने का निर्णय अव्यवहरिक व अपरिपक्व है। उन्होंने कहा है कि कोरोना का संक्रमण शिमला शहर जैसे भीड़-भाड़ वाले इलाकों में बड़ी तेजी से बढ़ रहा है। वहीं, जिन स्कूलों में बड़ी कक्षाओं के छात्र पढ़ाई करने के लिए जा रहे हैं, वहां पर भी कई छात्र कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इसके चलते स्कूलों में परीक्षाओं को लेकर अभिभावक व छात्र काफी घबराए हुए हैं। उन्होंने कहा कि जब छात्र व अभिभावक ही स्कूल में परीक्षाओं के लिए तैयार नहीं हैं तो फिर स्कूल प्रबंधन इन परीक्षाओं के संदर्भ में जबरदस्ती क्यों कर रहे हैं।

बता दें कि गुरुवार को जिला शिमला के ऑकलैंड हाउस स्कूल शिमला में आठवीं व नौवीं कक्षा के छात्रों के अभिभावकों ने स्कूल के बाहर मौन प्रदर्शन किया था। उन्होंने प्रदेश सरकार व जिला शिमला प्रशासन से शीतकालीन सत्र के सभी स्कूलों में ऑनलाइन कक्षाओं और वार्षिक परीक्षाओं का आयोजन किया जाने की मांग की। उन्होंने कहा कि अगर स्कूल प्रशासन ने छात्रों पर जबरदस्ती स्कूल आने का निर्णय थोपा तो इसके खिलाफ उग्र आंदोलन किया जाएगा।

Please Share this news:
error: Content is protected !!