शिलाई में फर्जी प्रस्ताव से जारी हो गए डेढ़ लाख, प्रधान और उपप्रधान ने को शिकायत

0
88

सिरमौर: जिला सिरमौर के शिलाई विकास खंड में बिंडला-दिगवा ग्राम पंचायत का फर्जी प्रस्ताव तैयार करके डेढ़ लाख रुपए की धनराशि जारी करने का मामला सामने आया (Shillai Scam Case) है. पंचायत के प्रधान रण सिंह और उप-प्रधान संत राम ने मामले को लेकर विकास खंड अधिकारी शिलाई को शिकायत पत्र सौंप कर कार्रवाई की मांग की है. पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा दी गई शिकायत में आरोप लगाया गया है की विकास खंड कार्यालय के कर्मचारी द्वारा यह फर्जी प्रस्ताव तैयार किया गया है, जबकि पंचायत की कार्रवाई पुस्तिका में इसके बारे में कोई जानकारी मौजूद नहीं है.

इस फर्जी प्रस्ताव में जिस तारिक का उल्लेख किया गया है, उस दिन पंचायत में कोई बैठक दर्ज नहीं (Fake proposal of Bindla Digwa Gram Panchayat) है. उन्होंने बताया कि जिस सड़क के लिए फर्जी प्रस्ताव तैयार किया गया है वो सड़क भी वन विभाग की जमीन पर आती है. इस पूरे मामले में हैरान कर देने वाली बात ये है की फर्जी प्रस्ताव पर ही सरकार द्वारा सड़क निर्माण के लिए डेढ़ लाख रुपए की धन राशि जारी कर दी गई है, जबकि फर्जी प्रस्ताव पर जिस सड़क का उल्लेख किया गया है, वो वन भूमि का क्षेत्र है और संबंधित विभाग द्वारा अभी तक उपरोक्त जमीन पर सड़क बनाने के लिए अपनी अनुमति भी नहीं दी है.

उप नेता प्रतिपक्ष और शिलाई के विधायक हर्ष वर्धन चौहान ने बताया की बिंडला-दिगवा ग्राम पंचायत के प्रधान और उप-प्रधान उनके पास मामले की शिकायत लेकर आए (Harshwardhan Chauhan on Shillai Scam) थे. जिसके बाद बीडीओ शिलाई को शिकायतपत्र सौंप कर निष्पक्ष कार्रवाई करने की मांग की गई है. उन्होंने बताया कि ये बात बहुत हैरान करने वाली है की पंचायत प्रतिनिधियों की जानकारी के बगैर विकास खंड कार्यालय के कर्मचारी फर्जी प्रस्ताव तैयार करके पंचायत सचिव के जाली हस्ताक्षर करके सरकारी कोष से धनराशि की निकासी करते है और पंचायतों के विकास कार्यों के लिए स्वीकृति प्राप्त करते है.

विधायक ने कही कि इससे ये साफ होता है की शिलाई विकास खंड में वर्तमान भाजपा सरकार में किस कद्र भ्रष्टाचार व्याप्त है. वहीं, विकास खंड शिलाई के बीडीओ अजय सूद ने बताया की बिंडला-दिगवा ग्राम पंचायत के प्रधान और उप-प्रधान द्वारा मामले को लेकर शिकायत दी गई है. मामले की जांच की जा रही है और जांच पूरी होने के बाद जो भी तथ्य सामने आएंगे उसके मुताबिक आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.

समाचार पर आपकी राय: