वक्त रहते सुधार न हुआ तो करोड़ों की लागत से बना नागरिक स्वास्थ्य केंद्र गोहर बन जाएगा खंडहर

गोहर, सुभाग सचदेवा। नाचन व सराज के लगभग 37 पंचायतों के लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाने वाला सिविल अस्पताल खुद ही बीमार चल रहा है। भारी बरसात में अस्पताल की छत से जगह-जगह से पानी टपकता है। विभागीय अधिकारी की अनदेखी के कारण करोड़ों रुपए से बने इस तीन मंजिला भवन मैं बरसात के दिनों में छत से बारिश का पानी जगह जगह से अस्पताल के अंदर टपक रहा है। भवन के टॉप फ्लोर में तो भारी वर्षा के चलते पानी अंदर भर जाता है जिससे यहां चलना भी मुश्किल होता है। वर्षा के दिनों में मरीजों व तामीरदार सहित अस्पताल में काम कर रहे स्टाफ को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

वर्षा होते ही यहां पानी टपकना शुरू हो जाता है जिससे वार्ड में भी मरीजों को चलने फिरने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। जिससे साफ पता चलता है कि हॉस्पिटल विभागीय अनदेखी के कारण स्वयं बीमार चल रहा है। मुख्यमंत्री के गृह विधानसभा क्षेत्र के साथ लगते नाचन के सब डिवीजन गोहर में सिविल अस्पताल के 50 बिस्तरों के अस्पताल में सुविधाओं का अभाव है। यहां स्टाफ की कमी के कारण मरीजों को सुविधा नहीं मिल पा रही है। सिविल अस्पताल में 8 डॉक्टरों के पद सृजित हैं जिसमें एक पद स्थानांतरण के चलते रिक्त चला हुआ है यहां 7 चिकित्सक की सेवा दे रहे हैं। अस्पताल में कोई भी स्पेशलिस्ट डॉक्टर के ना होने से मरीजों को मंडी व नेरचौक जाना पड़ता है। ब्लड बैंक की सुविधा तो है परंतु यहां स्पेशलिस्ट के ना होने से ब्लड बैंक का कोई मरीजों को लाभ नहीं मिल रहा है। एक्स रे प्लांट मशीन भी कई माह से खराब पड़ी थी जो आज ही ठीक हुई है।

यहां हस्पताल में उचित सफाई व्यवस्था न होने से मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। मात्र एक दिहाड़ी सफाई कर्मचारी के सहारे तीन मंजिला भवन में सफाई का काम चल रहा है। अस्पताल में ना ही पार्किंग व्यवस्था है और ना ही चिकित्सकों के लिए आवासीय सुविधा उपलब्ध है। केवल मात्र एक ही निवास है जिसमें एमओ इंचार्ज रहता है। डॉक्टरों को आवासीय सुविधा ना मिलने से डॉक्टरों को निजी आवास में रहना पड़ रहा। जिससे आपात काल में मरीजों और परिजनों को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

अस्पताल में सुविधाओं के बारे में जब एमओ इंचार्ज डॉ कुलदीप शर्मा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि पानी की समस्या को लेकर पीडब्ल्यूडी विभाग को अवगत करा दिया गया है। आसमान साफ होते ही इस कार्य को पूरा कर लिया जाएगा। जहां तक अन्य कमियों की बात है इसके बारे में उच्च अधिकारी को पत्र लिखकर सूचित कर दिया गया है। स्थानीय लोगों व बुद्धिजिवियों का कहना है कि अगर समय रहते उचित कार्रवाई न की गई तो करोड़ों की लागत से बना नागरिक स्वास्थ्य केंद्र गोहर का भवन खंडहर में तब्दील हो जाएगा।

error: Content is protected !!