डेढ़ घंटे तड़पता रहा चौहारघाटी में हादसे का शिकार हुआ युवक, पुलिस जवान साथ गए टांडा हॉस्पिटल

0

जोगिंद्रनगर (मंडी)। चौहारघाटी में कार हादसे में गंभीर रूप से घायल व्यक्ति को जोगिंद्रनगर अस्पताल से टांडा मेडिकल रेफर करने में करीब डेढ़ घंटे का समय लग गया है। इस बीच 108 एंबुलेंस के फार्मासिस्ट और पुलिस की औपचारिकताओं में ही उलझे रहे और घायल मरीज स्ट्रेचर पर तड़पता रहा।

घायल के तीमारदारों को अस्पताल पहुंचने में समय लग गया है। इस बीच 108 एंबुलेंस का फार्मासिस्ट इस बात पर अड़ गया कि वह तभी मरीज को टांडा ले जाएगा अगर पुलिस जवान उसके साथ जाएगा। इसके चलते करीब डेढ़ घंटे तक मरीज आपातकालीन वार्ड में स्ट्रेचर पर तड़पता रहा। सुबह साढ़े दस बजे गंभीर रूप से घायल मरीज को बरोट से 108 एंबुलेंस में अस्पताल पहुंचाया गया। यहां पर प्राथमिक उपचार दिलाकर करीब साढ़े 11 बजे टांडा रेफर किया गया। दोपहर करीब एक बजे अस्पताल से 108 एंबुलेंस घायल को लेकर रवाना हुई। ढाई बजे के करीब मरीज टांडा अस्पताल पहुंचा। ऐसे में उसकी हालत नाजुक बनी हुई है।

पुलिस थाना जोगिंद्रनगर के प्रभारी प्रीतम जरियाल ने बताया कि कार हादसे में घायल को पुलिस की निगरानी में पहले स्थानीय अस्पताल में उपचार दिलाया गया तीमारदारों के समय पर न पहुंचने पर पुलिस के जवान 108 एंबुलेंस के साथ टांडा गए।

Previous articleशिमला में भी चला पठान का जादू, दोनों थिएटर हुए पैक, जानें दर्शकों ने क्या कहा
Next articleराष्ट्रपति मुर्मू ने कांगड़ा के डीसी निपुण जिंदल को किया राष्ट्रीय पुरुस्कार से सम्मानित

समाचार पर आपकी राय: