ब्लैक फंगस से नादौन के युवक की आईजीएमसी शिमला में मौत


RIGHT NEWS INDIA


ब्लैक फंगस की चपेट में आने से उपमंडल नादौन के कोहला निवासी 38 वर्षीय व्यक्ति की आईजीएमसी में मौत हो गई। ब्लैक फंगस की चपेट में आने से हुई किसी व्यक्ति की जिला में यह पहली मृत्यु है। गुरुवार देर रात व्यक्ति ने इंदिरा गांधी मेडिकल कालेज शिमला में अंतिम सांस ली। व्यक्ति को 26 मई को हमीरपुर से आईजीएमसी शिमला रैफर किया गया था। कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद व्यक्ति का उपचार हमीरपुर कोविड अस्पताल में चल रहा था। यहां पर अचानक व्यक्ति को आंखों की दिक्कत शुरू हो गई।

बाद में नजर भी कम होने लग पड़ी। परिस्थितियां विपरीत होता देख चिकित्सकों ने जब जांच की तो व्यक्ति के ब्रेन में ब्लैक फंगस की आशंका दिखी। इसके चलते व्यक्ति को आईजीएमसी रैफर किया गया था।

बताया जा रहा है कि गुरुवार रात को मृत्यु से पहले व्यक्ति की आंखों की नजर पूरी तरह से चली गई थी। शुक्रवार को कोविड नियमों के तहत पंचायत क्षेत्र में मृतक का अंतिम संस्कार कर दिया गया। दो विवाहित बहनों के इकलौते भाई की मृत्यु के बाद परिवार पर दुखों का पहाड़ गिरा है। बेहद निर्धन परिवार में अब कमाने वाला कोई नहीं बचा है। उसके बाद अब परिवार में दो छोटे बच्चे एक बेटा, बेटी, पत्नी और वृद्ध मां है। पता चला है कि मृतक युवक सहित उसके परिजन कुछ समय पूर्व संक्रमित पाए गए थे। करीब दो सप्ताह पूर्व युवक और उसकी माता की तबीयत खराब होने के पर दोनों हमीरपुर अस्पताल में भर्ती थे, परंतु कुछ समय बाद युवक की बुजुर्ग माता ठीक हो कर घर आ गई थी। वहीं युवक का उपचार चल रहा था। गत बुधवार को तबीयत अधिक खराब होने पर युवक को शिमला रैफर कर दिया गया था, जहां गुरुवार रात उसकी मौत हो गई। शुक्रवार को समाजसेवियों परविंद्र कटोच, अरुण भारद्वाज, मनोज कुमार, मनुज शर्मा तथा संजय ठाकुर ने मृतक का अंतिम संस्कार पंचायत के सहयोग से करवाया।


Advertise with US: +1 (470) 977-6808 (WhatsApp Only)


error: Content is protected !!