पैसे लेकर नकल करवा कर डिग्री देने के मामले में 73 निजी कॉलेजों के खिलाफ जांच शुरू

शिमला। Himachal Private B Ed College, हिमाचल प्रदेश निजी शिक्षण संस्थान नियामक आयोग ने निजी बीएड कालेजों के खिलाफ जांच शुरू कर दी है। कोरोना काल में निजी बीएड कालेजों को लेकर आयोग के पास कई तरह की शिकायतें आई हैं।

बीएड कालेजों की संबद्धता हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला से है। आयोग ने शिकायतें पहले विश्वविद्यालय को भेजी थी। परीक्षा प्रणाली के अलावा अन्य तरह की अनियमितताओं की जो शिकायतें आई हैं, उसकी जांच अब खुद करवाने का निर्णय लिया है। इसके लिए एक कमेटी गठित की है।

कमेटी कुछ कालेजों का दौरा कर वहां से रिकार्ड कब्जे में लेकर उसकी जांच कर रही है। प्रदेश में कुल 73 निजी बीएड कालेज हैं। इन कालेजों में पढऩे वाले विद्यार्थियों की संख्या कितनी है। शिक्षकों की योग्यता क्या है। कोर्स सरकार से मंजूर हैं या नहीं। नैक मान्यता से लेकर रैंकिंग सहित अन्य सुविधाओं को जांचा जा रहा है।

आनलाइन शिक्षा देने के लिए क्या प्रक्रिया अपनाई जा रही है। संस्थानों के आधारभूत ढांचे को भी जांचा जाएगा। जांच कमेटी रिपोर्ट आने के बाद आयोग के अध्यक्ष को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। इसके बाद इस रिपोर्ट को प्रदेश सरकार और विश्वविद्यालय को भी भेजा जाएगा।

पैसे लेकर नकल करवाने वाले कालेज का परीक्षा केंद्र रद

आयोग के पास एक निजी बीएड कालेज के खिलाफ शिकायत आई थी। यह प्रेक्टिकल में बिना अपीयर हुए पास करवाने और पैसे मांगने से संबंधित शिकायत थी। आयोग ने इस शिकायत को हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला को भेजा था। विश्वविद्यालय ने इस कालेज का परीक्षा केंद्र रद करवा दिया है। कालेज को चेतावनी भी जारी की गई है।

क्‍या कहते हैं नियामक आयोग अध्‍यक्ष

हिमाचल प्रदेश निजी शिक्षण संस्थान नियामक आयोग के अध्यक्ष मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) अतुल कौशिक ने कहा कि बीएड कालेज विश्वविद्यालय के अधीन आते हैं, लेकिन एक्ट में मिले अधिकारों के तहत आयोग कुछ बिंदुओं पर जांच कर सकता है। इस जांच को शुरू कर दिया गया है।

error: Content is protected !!