चरस मामलों में फंसा रही हिमाचल पुलिस, जबरदस्ती फंसाए गए बेटे के पिता ने की स्वतंत्र जांच की मांग

जोगेंद्रनगर। मंडी जिला के जोगेंद्रनगर की नजदीकी नेर घरवासड़ा पंचायत के उपप्रधान राकेश जम्वाल ने कांगड़ा पुलिस पर बेटे पर प्रताड़ना के संगीन आरोप लगाकर प्रदेश पुलिस महानिदेशक से स्वतंत्र जांच की मांग उठाई है।

आरोप है कि उनके बेटे पर कांगड़ा पुलिस ने साजिश के तहत झूठा मामला दर्ज कर न केवल मारपीट की है बल्कि घंटों बंधक बनाकर भी रखा। मामले की जांच अधिकारी से मांगी गई सूचना के आधार पर जानकारी को भी स्वजनों को नहीं दिया जा रहा है।

वहीं बेटे के साथ की गई मारपीट पर भी पुलिस ने चुप्पी साध रखी है। आरोप है कि सादी बर्दी में चार से पांच लोगों ने करीब चार घंटे तक उसे बंधक बनाकर रखा और जब बेटे और स्वजनों ने उससे मारपीट पर आवाज उठाई तो उसे जबरन पुलिस थाने में बंद कर दिया। कांगड़ा पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए पिता राकेश जम्वाल ने कहा कि उन्होंने पुलिस के उच्चाधिकारियों से इस मामले में स्वतंत्र जांच की मांग की है ताकि मामले की वास्तविकता से पर्दा उठ सके।

सोमवार को पत्रकारों से रूबरू हुए नेर घरवासड़ा पंचायत के उपप्रधान राकेश जम्वाल ने कहा कि पुलिस की प्रताड़ना से उनका बेटा डिप्रेशन का शिकार हो चुका है। एमबीए की पढ़ाई कर रहे बेटे सौरव जम्वाल से पुलिस ने मारपीट कर उसे शरीर में कई जख्म दिए हैं। लेकिन पुलिस एमएलसी रिर्पोट भी स्वजनों को उपलब्ध करवाने में आनाकानी कर रही है। ऐसे में वह इस मामले को जल्द प्रदेश उच्च न्यायालय की चैखट में भी लाएगें।

यह है मामला

मंडी कांगड़ा सीमा के बीड़ में गत 29 जुलाई को सादी बर्दी में तैनात कांगड़ा पुलिस ने एक कैफे में छापेमारी कर चरस बरामद की थी। इस मामले में कुछ युवकों को पुलिस ने एनडीपीसी एक्ट के तहत हिरासत में लिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार जोगेंद्रनगर से सबंध रखने वाले सौरव जम्वाल को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया। इस मामले पर पिता ने खुलासा करते हुए बताया कि उनका बेटा कैफे के बाहर मौजूद था। चरस मामले से उसका दूर-दूर तक संबध नहीं है। बावजूद उसके भी पुलिस ने जबरन उठा लिया और मारपीट करते हुए थाने में बंद कर दिया। बताया कि करीब चार घंटे तक उसे बंधक बनाकर रखा।

पुलिस अधीक्षक कांगड़ा खुशहाल शर्मा ने पुलिस पर लगाए गए सभी आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए बताया कि पुलिस ने कानून के दायरे और साक्ष्य के आधार पर ही कार्रवाई अमल में लाई है। स्वजनों के द्वारा मांगी गई पुलिस से जानकारी भी जल्द उपलब्ध करवा दी जाएगी। बताया कि कांगड़ा पुलिस हर पहलु को ध्यान में रखकर कानूनी कार्रवाई अमल में ला रही है। परिवार पर खतरा बताकर मांगी पुलिस सुरक्षा।

नेर घरवासड़ा पंचायत के उपप्रधान राकेश जम्वाल ने परिवार पर जानलेवा हमले की आशंका जाहिर करते हुए बताया कि बीते कुछ दिन पहले उनके दोनों बेटों पर जानलेवा हमला भी हुआ था। परिवार को भी धमकियां मिल रही है। लिहाजा पुलिस सुरक्षा प्रदान की जाए। बताया कि राजनैतिक द्वेष के चलते उनके परिवार की छवि को खराब करने का प्रयास किया जा रहा है।

error: Content is protected !!