हिम आंचल पेंशनर संघ ने सरकार से उठाई पुरानी पेंशन बहाली की मांग

गोहर, सुभाग सचदेवा। हिम आंचल पेंशनर्स संघ चच्योट खंड की सत्र 2021-2023 की प्रथम बैठक जाच्छ जोन के जहल में नवनियुक्त अध्यक्ष रणजीत सिंह की अध्यक्षता में हुई। बैठक में संघ के 75 मान्य सदस्यों ने भाग लिया। इस अवसर पर बैठक की कार्यवाही प्रारम्भ होने से पूर्व इस खंड के सदस्य मोरध्वज शर्मा, श्यामी देवी व ब्रेसती देवी के निधन पर दो मिनट का मौन रख कर दिवंगत आत्माओं के शान्ति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिवार के प्रति सवेदना व्यक्त की।

बैठक में प्रदेश उपाध्यक्षा लक्ष्मी आर्य, दमयंती ठाकुर, जिला मंडी अध्यक्ष ठाकुर बली राम तथा द्रंग खंड के प्रधान एम.सी. चौहान बतौर मुख्यातिथि उपस्थित रहे। प्रधान रणजीत सिंह ने जानकारी देते हुए कहा कि मंडी जिला के समस्त खंडो के चुनाव हो चुके हैं। जबकि जिला और प्रदेश के होने शेष हैं, इस पर अनेकों वक्ताओं ने वर्तमान जिला अध्यक्ष बली राम के नाम का पुन: समर्थन किया और पारित किया कि इन्हें एकबार फिर मौका देना चाहिए।

संघ ने सदस्यों ने पेंशनरों की मांगो पर विस्तार से चर्चा की और एकमत से सरकार के समक्ष मांग उठाई कि पैंशनरों की चिरकालीन मुख्यता 5, 10, 15 प्रतिशत देय भत्ते को मूल पेंशन में जोड़ा जाए तथा पैंशनरों को मिलने वाले चिकित्सा भत्ते को 1000 रुपए किया जाए। सदस्यों ने यह भी मांग उठाई की सरकार पुरानी पेंशन योजना को फिर से बहाल करने पर भी विचार करें। ताकि बुढ़ापे के दौरान सेवानिवृत्त हो रहे कर्मचारियों और अधिकारियों को आर्थिक तंगी से न जूझना पड़े। बैठक को संघ के माननीय सदस्य हेम सिंह ठाकुर, इंद्र सिंह ठाकुर, लालमन त्यागी, जय राम, दमयंती ठाकुर, लक्ष्मी आर्य, बली राम ठाकुर और पीर , एम.सी. चौहान ने भी संबोधित किया।

इस समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें:

error: Content is protected !!