स्कूल में स्लैब टूटने से जख्मी हुए छात्रों के मामले में हाई कोर्ट ने मांगी रिपोर्ट

शिमला : प्रदेश के सिरमौर जिला में गत दिवस एक स्कूल का स्लैब टूटने के कारण पांच बच्चे घायल हो गए थे। इस मामले में अब उच्च न्यायालय की जूविनाइल जस्टिस कमेटी ने सचिव लोक निर्माण विभाग व निदेशक उच्च शिक्षा से इस बाबत रिपोर्ट मांगी है।

मामले का संज्ञान लेते हुए कोर्ट ने पूछा है कि उन्होंने स्कूल भवन का निर्माण करने वाले ठेकेदार के खिलाफ क्या कार्यवाही अमल में लाई है। हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय की जूविनाइल जस्टिस कमेटी के अध्यक्ष न्यायमूर्ति तरलोक सिंह चौहान ने उक्त अधिकारियों को अपनी रिपोर्ट में यह स्पष्ट करने को कहा है कि क्या इस तरह घटिया गुणवत्ता वाले निर्माण कार्य के लिए ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी गई है। इस प्रशासनिक आदेश को पारित करने से पूर्व जूविनाइल जस्टिस कमिटी के अध्यक्ष न्यायमूर्ति तरलोक सिंह चौहान ने डीसी सिरमौर नाहन से उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार के माध्यम से दोपहर के 3 बजे तक ईमेल या फैक्स के माध्यम से उक्त मामले पर रिपोर्ट भेजने को कहा।

हाईकोर्ट के निर्देश के बाद डीसी सिरमौर आरके गौतम ने रिपोर्ट भेजी है, जिसमें उन्होंने बताया है कि जब राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय बनेड़ी के टेन प्लस वन क्लास के छात्र अवकाश अवधि के बाद स्लैब के ऊपर से गुजर रहे थे तो ठीक उस समय खेल के मैदान को पहली मंजिल से जोड़ने वाला कंक्रीट स्लैब अचानक गिर गया। इस घटना के कारण आठ बच्चे नीचे गिर गए और परिणामस्वरूप घायल हो गये। बच्चों को तुरंत स्थानीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया। जहां उन्हें चिकित्सा सहायता प्रदान की गई। सभी छात्र खतरे से बाहर है। उनका सारा चिकित्सा खर्चा सरकार उठा रही है। उन्होंने अपनी रिपोर्ट में आगे कहा कि इसके अलावा पुलिस अधीक्षक से मामले की जांच करने को कहा गया है ताकि पुलिस मामले में उचित कार्रवाई करें। उक्त मामले को लेकर प्राथमिकी दर्ज की गई है। स्लैब/पथ के निर्माण में किसी भी प्रकार की चूक का पता लगाने के लिए जांच की जा रही है।

error: Content is protected !!