ऊना कॉलेज मारपीट मामले में पांच छात्र सस्पेंड, पुलिस अधीक्षक ने दिए चोर दरवाजे बंद करने के निर्देश

राजकीय महाविद्यालय में दो दिन पूर्व खूनी संघर्ष में शामिल पांच विद्यार्थियों को संस्पेंड कर दिया गया है। बुधवार को एएसपी प्रवीण धीमान ने कालेज का दौरा किया। इस दौरान एएसपी ने कालेज प्रशासन के साथ बैठक की और विद्यार्थियों से भी चर्चा की। कालेज प्रशासन ने मारपीट में शामिल पांच विद्यार्थियों को निलंबित कर दिया है। एएसपी ऊना ने कालेज प्रशासन को अनाधिकृत रास्तों को बंद करने के भी निर्देश दिए।

बताते चलें कि राजकीय कॉलेज ऊना में गत सोमवार खूनी संघर्ष के बाद पुलिस व कालेज प्रशासन सतर्क हो गए हैं। मारपीट के बाद जहां पुलिस कालेज में हर गतिविधि पर नजर रख रही है, तो वहीं कालेज प्रशासन द्वारा लगातार बैठकों का दौर जारी है। बुधवार को कालेज में जहां पीटीए की बैठक हुई। एएसपी प्रवीण धीमान कालेज पहुंचे, जिन्होंने कालेज की सुरक्षा व्यवस्था के साथ-साथ छात्र द्वारा तोड़े गए सीसीटीवी कैमरों के स्थल का निरीक्षण किया। इस दौरान एएसपी ऊना ने छात्रों से भी मुलाकात की।

वहीं पीटीए की बैठक में कालेज प्रशासन ने पांच छात्रों को 15 दिन के लिए निलंबित करने पर सहमति जताई। गौरतलब है कि सोमवार को पीजी कालेज ऊना में छात्र गुटों में मारपीट का मामला सामने आया था। इस दौरान चार छात्र लहुलूहान हो गए, जिनका क्षेत्रीय अस्पताल ऊना में उपचार करवाया गया। वहीं दूसरी ओर एएसपी ऊना प्रवीण धीमान ने कालेज की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया और कालेज के हर कोने का निरीक्षण कर अनाधिकृत रास्तों को बंद करने के निर्देश दिए। इसके अलावा कॉलेज परिसर में टूटे हुए सीसीटीवी कैमरों को जल्द से जल्द दुरुस्त करने की बात कही। 

वहीं एएसपी ऊना प्रवीण धीमान ने बताया कि कॉलेज में निरीक्षण करने का उद्देश्य सुरक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करना है। कॉलेज में जो भी अनाधिकृत रास्ते हैं, उनको बंद करने के लिए प्रशासन को निर्देश दिए, ताकि कोई आउटसाइडर कॉलेज में प्रवेश न कर पाए। कालेज प्राचार्य डा. त्रिलोक चंद ने कहा कि कालेज में हुई मारपीट को लेकर पीटीए के साथ बैठक की गई है। अनुशासनहीनता पैदा करने वाले पांच छात्रों को 15 दिनों के लिए निलंबित किया गया है।

Please Share this news:
error: Content is protected !!