First Lady HPPWD Head; हिमाचल में पहली बार महिला इंजीनियर को बनाया गया लोक निर्माण विभाग का मुखिया

शिमला: हिमाचल में पहली बार किसी महिला इंजीनियर को महत्वपूर्ण पीडब्ल्यूडी महकमे का मुखिया बनाया गया है। राज्य सरकार ने प्रमुख अभियंता दारा सिंह दहल की शनिवार को रिटायरमैंट के बाद ईएनसी (प्रोजैक्ट) अर्चना ठाकुर को पीडब्ल्यूडी का मुखिया बनाया है।

इसके बाद ईएनसी (प्रोजैक्ट) का अतिरिक्त कार्यभार भी अर्चना ठाकुर को ही सौंपा गया है। बीते सप्ताह ही सरकार ने अर्चना ठाकुर को चीफ इंजीनियर से ईएनसी पद पर पदोन्नति दी थी।

निर्माण कार्यों की गुणवत्ता से नहीं किया जाएगा समझौता

अर्चना ठाकुर ने बताया कि सरकार की योजनाओं को धरातल पर उतारना उनकी प्राथमिकता रहेगी। उन्होंने बताया कि सड़क, पुल और भवनों के निर्माण की गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं किया जाएगा। निर्माण कार्य में गुणवत्ता सुनिश्चित बनाने के लिए सभी इंजीनियरों को फील्ड में जाने के निर्देश दिए जाएंगे। सभी निर्माण कार्य को तय समय में निपटाना होगा। ठेकेदारों को भी इस संबंध में आवश्यक निर्देश दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि नाबार्ड, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, सीआरएफ व विश्व बैंक परियोजना इत्यादि से राज्य में चल रहे विभिन्न विकास कार्यों को गति दी जाएगी।

निरमंड के सगोट गांव की रहने वाली हैं अर्चना ठाकुर

अर्चना ठाकुर मूलरूप से निरमंड के सगोट गांव की रहने वाली हैं और अब अगले एक साल चार महीने के लिए पीडब्ल्यूडी महकमे का दायित्व संभालेंगी। इससे पहले राज्य के वन विभाग का दायित्व एक महिला आईएफएस अधिकारी संभाल चुकी है।

error: Content is protected !!