श्रम कल्याण बोर्ड के कर्मचारियों का कारनामा, कामगारों के हस्ताक्षर करवा लिए लेकिन नही दी वस्तुएं

तहसील मुख्यालय बालीचौकी में श्रम कल्याण बोर्ड द्वारा मजदूरों के हस्ताक्षर करवाने पर विभाग से मिलने वाली वस्तुओं का वितरण नही किया गया है। जिससे सैंकड़ों महिलाओं को मानसिक व आर्थिक तौर पर परेशानीयां झेलनी पड़ी। जानकारी देते हुए जयंवती देवी, कौश्ल्या देवी, विधा देवी,पदमा देवी, पूर्णा देवी, डेरमा देवी सहित दर्जनों महिलाओं ने बताया कि वीरवार को विभाग की तरफ से उन्हें सोलर लैंप व इंडक्शन हीटर के लिए बालीचैकी में बुलाया गया था।

बालीचैकी पहुंचने पर विभाग के कर्मचारीयों ने सैंकड़ों पात्र महिलाओं के हस्ताद्वार किए लेकिन उन्हें सोलर लैंप व इंडक्शन हीटर नही वितरीत किए। श्रम कल्याण बोर्ड की तरफ से आए कर्मचारियों ने कहा कि आप सभी लोगों ने हस्ताक्षर करवा लिए है, ऐसे में सभी पात्र कामगारों को मंत्री के आने पर ही सोलर लैंप व इंडक्शन हीटर वितरीत किए जाएंगे।

बालीचौकी आई सैंकड़ों महिलाओं ने इसका विरोध भी किया, लेकिन किसी भी कर्मचारी ने उनकी बात नही मानी। पंजाई पंचायत से संबध रखने वाली हेती देवी ने बताया कि उन्हें बालीचौकी में सोलर लैंप मिलने की बात कह कर बुलाया था। लेकिन उनके पास किराया भी नही था। उन्होंने कहा कि विभाग सुविधा देने के बजाया, उन्हें मानसिक तौर पर परेशान किया जा रहा है।

वहीं दूसरी तरफ कामगार संगठन के अध्यक्ष संत राम ने कहा कि सराज क्षेत्र के लिए जुन 2019 में 1130 सोलर लैंप व इंडक्शन हीटर बोर्ड की तरफ से कामगारों को स्वीकृत हुए थे, लेकिन इनके वितरण को लेकर लगातार राजनीति की जा रही है। उन्होंने कहा कि 14 सिंतबर 2019 को सराज के सरोआ में मंत्री गोविंद ठाकुर व साधना ठाकुर उपाध्यक्ष रैड क्रॉस सोसायटी व 24 नंवबर 219 को सराज के थुनाग में उधोग मंत्री विक्रम सिंह और 4 दिसंबर 2019 बंजार के विधायक सरेंद्र शौरी उसके उपरांत 5 मई 2020 को विकास खंड़ अधिकारी व पंचायत समिती के अध्यक्ष ने उक्त चिजों का वितरण किया है।

संत राम ने कहा कि लगातार राजनैतिक तौर पर दखल दिया जा रहा है, जिसके चलते मजदूरों को बार बार बुलाया जा रहा है। जिससे कामगार मानसिक व आर्थिक तौर पर परेशानीयां झेलनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि आज लगभग सैंकड़ों महिलांए इस उम्मीद के साथ बालीचौकी आई थी कि उन्हें बोर्ड की तरफ से सोलर लैंप व इंडक्शन हीटर मिल जाएगें, लेकिन सभी सैंकड़ों महिलाओं को निराशा होकर घर पहुंचना पड़ा।

कामगार संगठन के अध्यक्ष ने कहा कि इससे पूर्व बोर्ड से मिलने वाली सुविधाओं को वितरण तीन चार पंचायतों के केंद्र में होता रहा है, लेकिन पिछले तीन वर्षो से इसके वितरण को लेकर लगातार राजनीति हो रही है। जिससे हजारों पंजीकृत कामगारों को मिलने वाली सुविधाएं समय के अनुसार नही मिल रही है और ना ही समय पर स्वीकृत हो रही है।

संत राम ने चेताया है कि अगर बोर्ड इसी तरह की मनमानी करता रहेगा, तो उसके खिलाफ धरना प्रदर्शन के साथ कानूनी लड़ाई भी लडी जाएगी। वहीं बालीचौकी में आए कर्मचारी ओम प्रकाश से संपर्क करने पर उन्होने मामले को लेकर कुछ भी प्रतिक्रिया नही दी। वहीं मामले को लेकर श्रम कल्याण अधिकारी मंड़ी से संपर्क करने पर एक कर्मचारी ने बताया कि श्रम अधिकारी छुट्टी पर है ऐसे में हम कुछ भी प्रतिक्रिया नही दे सकते।

error: Content is protected !!