एसएमसी शिक्षक संघ के सरकार को समर्थन देने वाले बयान पर संज्ञान ले चुनाव आयोग; बेरोजगार अध्यापक

धर्मशाला। Unemployed Teachers Association, हिमाचल प्रदेश बेरोजगार अध्यापक संघ के प्रदेश अध्यक्ष निर्मल सिंह धीमान, महासचिव राजेश धीमान तथा मीडिया प्रभारी प्रकाश चंद ने कहा चुनाव आयोग एसएमसी शिक्षक संघ के वक्तव्य का संज्ञान ले।

एसएमसी शिक्षक संघ ने 11 अक्टूबर को बयान जारी किया है कि वे उपचुनावों में वर्तमान सरकार एवं भाजपा प्रत्याशियों का समर्थन करेंगे और उन्हें जिताने में पूरी जी जान लगा देंगे। सरकारी स्कूलों में कार्यरत एसएमसी शिक्षक ऐसा बयान जारी कर चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं।

दरअसल यह शिक्षक बिना कमीशन और बिना सीनियोरिटी से भर्ती हुए हैं, जो भर्ती नियमों का सरासर उल्लंघन है। हम सभी जानते हैं कि बिना कमीशन भर्ती से शिक्षा की गुणवत्ता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इससे लाखों विद्यार्थियों का जीवन दांव पर लगा है। ऊपर से यह शिक्षक नियमित होने के लिए झूठ बोल रहे हैं कि वे अपनी सेवाऐं केवल दुर्गम क्षेत्रों में दे रहे हैं।

सच यही है कि एसएमसी शिक्षक हर जिला में तैनात हैं। एसएमसी शिक्षक संघ स्वंय प्रेस के माध्यम से बयान दे रहा है कि 200 एसएमसी शिक्षक फतेहपुर जिला कांगड़ा में कार्यरत हैं। सभी जानते हैं फतेहपुर चुनाव क्षेत्र दुर्गम क्षेत्रों में नहीं आता। मतदान वह होता है जो एक हाथ से देकर दूसरे हाथ को पता न चले। इसी से लोकतंत्र जिंदा रहता है। एसएमसी शिक्षक मतदान नहीं करने जा रहे बल्कि अनैतिक तरीके से सौदेबाजी कर रहे हैं। इसलिए चुनाव आयोग को एसएमसी शिक्षकों पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए ताकि आने वाले समय में कोई भी शिक्षक संघ लोकतंत्र को खतरे में न डाल सके।

शिक्षक महासंघ की चुनाव प्रक्रिया शुरू

शिमला। हिमाचल प्रदेश शिक्षक महासंघ ने प्रांत के सभी स्तरों पर चुनाव की अधिसूचना जारी कर दी है। मंडल और खंडों के चुनाव 30 अक्टूबर तक पूरे किए जाएंगे। जिला पदाधिकारियों को 15 अक्टूबर से पहले पहले मंडलों और खंडों के चुनावों की अधिसूचना जारी करने के निर्देश दिए हैं। 30 अक्टूबर से पहले पहले सभी खंडों के चुनाव संपन्न होने चाहिए। महासंघ के प्रांत उपाध्यक्ष डा. मामराज पुंडीर ने बताया कि प्रदेश के सभी 24 संगठनात्मक जिलों के चुनाव की तिथि जारी कर दी है।

error: Content is protected !!