हिमाचल में थम गया चुनाव प्रचार, संयुक्त किसान मोर्चा ने भाजपा के खिलाफ खोला मोर्चा

शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में 30 अक्टूबर को होने वाले उपचुनावों (By-Elections) के लिए चुनाव प्रचार का आज अंतिम दिन है. ऐसे में सभी राजनीतिक दल शक्ति प्रदर्शन कर वोटरों को अपनी ओर रिझाने के प्रयास कर रहे हैं.

वहीं, संयुक्त किसान मोर्चे ने भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. किसान मोर्चा के प्रदेश संयोजक अनिंदर सिंह नौटी (Aninder Singh Nauti) ने शिमला में ‘नो वोट फ़ॉर बीजेपी’ के तहत प्रदेश के सभी किसान, बागवान,मजदूर और मजबूर लोगों से मतदान करने का आग्रह किया है. शिमला में आयोजित पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए किसान नेता अनिंदर सिंह नौटी ने कहा कि पिछले 11 माह से देशभर के 28 राज्यों के किसान विभिन्न जगहों पर तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध कर रहे हैं, लेकिन केंद्र की सरकार इन कृषि कानूनों पर किसानों के साथ बातचीत कर हल नहीं निकालना चाहती है. जिसके चलते अब तक 700 से ज्यादा किसान शहीद हो गए हैं.

अनिंदर सिंह नौटी ने कहा कि इससे पहले 22 जुलाई 1990 को कोटगढ़ में तीन किसान शहीद हुए थे. और अभी हाल ही में यूपी के लखीमपुरी में पांच किसान शहीद हुए हैं. इस दौरान उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया कि दोनों समय विरोधी विचारधारा वाली सरकार थी, जो अभी भी किसानों के खिलाफ तीन कृषि कानून ला रही है. ऐसे में संयुक्त किसान मोर्चा प्रदेश की जनता से आह्वान कर रही है कि वे भाजपा को सत्ता से बाहर करने के लिए नो वोट फ़ॉर बीजेपी के अभियान में शामिल होकर भाजपा के खिलाफ वोट करें.

भाजपा प्रत्याशियों को गांव में घुसने नहीं दिया
उन्होंने कहा कि 30 अक्टूबर को होने वाले चुनाव में प्रदेश के सभी लोग भाजपा के खिलाफ वोट करें, ताकि 2 नवंबर को शहीद हुए किसानों को सच्ची श्रद्धांजलि दी जा सके. उन्होंने कहा कि इससे पहले किसान संयुक्त मोर्चा ने वोट की चोट ‘नो वोट फ़ॉर बीजेपी’ जनजागरण अभियान चलाया था, जिसके तहत पूरे प्रदेश के लोगों को जागरुक किया गया है. उन्होंने कहा कि हाल ही में चुनाव प्रचार के दौरान कई विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा प्रत्याशियों को गांव में घुसने नहीं दिया.

किसान विरोधी सरकार को सत्ता से बाहर किया जाए
उन्होंने कहा कि फतेहपुर के मण्ड क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी को गांव वलों ने घुसने नहीं दिया. इसके अलावा नालागढ़ में एसडीएम ऑफिस के बाहर चक्का जाम और मंडी के सुंदरनगर से नेरचौक तक रैली निकाली और इससे पहले पौंटा साहिब में किसान मंच का आयोजन किया गया. साथ ही जुब्बल कोटखाई में बागवान एकत्र होकर संयुक्त किसान मोर्चे का गठन किया गया. जिसके बाद ठियोग में बागवानी मंत्री का घेराव किया गया. उन्होंने प्रदेश के लोगों से आग्रह किया कि वे 30 अक्टूबर को नो वोट फ़ॉर बीजेपी के तहत मतदान करें, ताकि किसान विरोधी सरकार को सत्ता से बाहर किया जा सके.

HOTEL FOR LEASEHotel New Nakshatra

Hotel News Nakshatra for Lease. Awesome Property with 10 Rooms, Restaurant and Parking etc at Kullu.

error: Content is protected !!