Earthquake: हिमाचल में फिर हिली धरती, मंडी में बताया गया भूकंप का केंद्र

शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में भूंकप (Earthquake) के झटके महसूस किए गए. वहीं, अचानक आए भूकंप के बाद लोग दहशत में आ गए हैं. इसका केंद्र शिमला से 45 किलोमीटर दूर मंडी में बताया जा रहा है.

जबकि भूकंप की तीव्रता 3.4 मापी गई है. हालांकि इस दौरान किसी भी तरह के जानमाल की हानि की कोई खबर नहीं है. वहीं, भूकंप के झटके महसूस होने के बाद प्रशासन और पुलिस महकमा अलर्ट हो गया है.

इससे पहले 24 नवंबर को हिमाचल प्रदेश में 24 घंटे के अंदर चार बार भूंकप के झटके महसूस किए गए थे. वहीं, हिमाचल प्रदेश में इन दिनों भूंकप आने की घटनाओं में वृद्धि हो गई है. बीते 19 नवंबर को देर रात मंडी जिले में करीब 12.01 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के मुताबिक, भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 3.4 रही थी. इस दौरान किसी तरह के जानमान का नुकसान नहीं हुआ था.

जानकारी के अनुसार, हिमाचल में इस महीने 28 दिन में 12 बार भूकंप आ चुका है. शिमला में सबसे अधिक 4 बार भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं. किन्नौर में 3 बार, चंबा में 2, मंडी और कांगड़ा में एक-एक बार भूकंप आया है. जबकि 15 नवंबर को हिमाचल में एक दिन में दो जिलों में भूकंप आया था. अहम बात है कि भूकंप की तीव्रता अधिक नहीं थी.

भूकंप को लेकर हिमाचल का चंबा, मंडी और शिमला सबसे संवेदनशील माने जाते हैं. ये जोन चार और पांच में शामिल हैं. जबकि चंबा जिले में हिमाचल में सबसे अधिक भूकंप आते हैं. कांगड़ा में 1905 में बड़ा भूकंप आया था. दावा किया जाता है कि 20 हजार लोगों की जान गई थी. वहीं, 1975 में किन्नौर जिले में भी बड़ा भूकंप हुआ था.

Please Share this news:
error: Content is protected !!