जल शक्ति विभाग की भर्ती में गड़बड़ी, दो भाजपा मंत्रियों को घेरा और की जांच की मांग

कुल्लू. हिमाचल प्रदेश सरकार की ओर से जल शक्ति विभाग (आईपीएच विभाग) में बहुउद्देशीय कर्मचारियों की भर्ती पर भाजपा के पूर्व सांसद और पूर्व विधायक महेश्वर सिंह ने अपनी ही सरकार पर सवाल उठाए हैं. महेश्वर सिंह का आरोप है कि आईपीएच विभाग की एमपीडब्ल्यू भर्ती में गड़बड़ी हुई है और कुल्लू विधानसभा में मात्र 3 व्यक्तियों को भर्ती किया गया, जबकि उनकी विधानसभा में कैडिडेट्स के पास एक्सपीरियंस के बावजूद भर्ती नहीं किया गया है.

उन्होंने सीएम जयराम ठाकुर से भी मुलाकात कर जांच की मांग की है. महेश्वर सिंह ने कहा कि ऐसी कौन सी मैरिट है, जो कुल्लू में नहीं मनाली में मिलती है? पूर्व विधायक महेश्वर सिंह ने कहा कि मैं शिमला गया था और मुख्यमंत्री से कुल्लू विधानसभा की घोषणाओं को जल्द पूरा करने की मांग की है और आगामी बजट बनाना है, ऐसे में कुल्लू विधानसभा में की हुई घोषणाए पूरी नहीं हुई है और मंडल मिलन को लेकर भी लिखित आग्रह किया है. उन्होंने कहा कि मैंने मुख्यमंत्री को लिखित में आईपीएच विभाग में भर्ती को लेकर शिकायत की है और मुख्यमंत्री ने अनदेखी को स्वीकार किया है. उन्होंने कहा कि आईपीएच विभाग के एक्सईएन से भर्ती को लेकर पूछा कि कुल्लू विधानसभा से 3 लोगों को भर्ती किए गए हैं, जबकि मनाली विधानसभा से 31 लोगों को भर्ती किया है. इस पर एक्सईएन ने कहा कि मैंने नंबर देने में कोई कंजूसी नहीं की है. कैंडिडेट्स के पास एक्सपीरियंस नहीं था. इस पर महेश्वर सिंह ने कहा कि उन्हों ने पूछा था कि क्या कुल्लू वालों के पास ही अनुभव नहीं है.

आईपीएच मंत्री का बयान आया है कि कोई गड़बड़ी नहीं हुई

महेश्वर सिंह ने कहा कि भर्ती में 31 कैडिडेटस में 1 बंजार का और 1 मंडी से और 1 सराज से चयनित हुआ है. वहीं, भर्ती को लेकर आईपीएच मंत्री का बयान आया है कि कोई गड़बड़ी नहीं हुई, इस पर उन्होंने आईपीएच मंत्री से सवाल किया है कि क्या आपने रिजल्ट चेक किए थे? बिना रिजल्ट जांचें क्लीन चिट दी गई है. मैंने इसको लेकर मुख्यमंत्री से जांच की मांग की है और जिसकी जांच के बाद दूध का दूध पानी का पानी होना चाहिए. महेश्वर सिंह ने दावा किया है कि एक्सपीरियंस सर्टिफिकेट ठेकेदारों से मांगे गए थे. मामले की पूरी जांच होनी चाहिए.

Please Share this news:

इस समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें:

error: Content is protected !!