Treading News

विश्व तम्बाकू निषेध दिवस का जिला स्तरीय जागरूकता कार्यक्रम तल्याहड़ में

मंडी। विश्व तम्बाकू निशेध दिवस का जिला स्तरीय जागरूकता कार्यक्रम आज राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठषाला तल्याहड़ में आयोजित किया गया, जिसकी अध्यक्षता जिला स्वास्थ्य अधिकारी  डा दिनेश ठाकुर ने की ।

इस अवसर पर डा दिनेश ठाकुर ने बताया कि यह दिवस पूरे विश्व में 1988 से विश्व स्वास्थ्य संगठन के तत्वाधान में मनाया जाता है और हर वर्श इसका थीम निर्धारित किया जाता है। इस वर्श का थीम है ”पर्यावरण के लिए खतरनाक है तम्बाकू“ । उन्होंने कहा कि इस दिवस का मुख्य उद्धेष्य लागों को तम्बाकू के सेवन करने से होने वाले विपरित प्रभावों व हानियों के बारे में जागरूक करना है। इसके लिए आज पूरे विष्व में तम्बाकू का सेवन नहीं करने तथा अपने परिजनों, मित्रों को भी तम्बाकू उत्पादों का सेवन नहीं करने की अपील को सभी प्रतिभागियों  को शपथ दिलाकर जागरूक किया गया।  

उन्होंने कहा कि तम्बाकू का सेवन करना मौत को दावत देना है। इससे पुरुष और महिला के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है और हमारे पर्यावरण के लिए भी खतरा है। तम्बाकू के सेवन से विश्व में हर वर्श 70 लाख लोग मरते है । इसके सेवन से फेफडे़, लिवर, मुंह गले, ब्रेस्ट कैसर तथा हृदयरोग गैगरीन, मधू मेह (शूगर) के रोग हो रहे हैै।

मनोविज्ञानिक डा राजीव ने बताया कि तम्बाकू के सेवन पर अंकुश लगाना हम सब की जिम्मेवारी है इसके लिए बनाऐ गये कौटपा एक्ट-2003 का पालन करके सभी सरकारी और सार्वजनिक स्थानों स्कूलों, ग्राम पंचायतों व संस्थानों को तम्बाकू फ्री करने करने के उद्धेष्य से सभी विभागों व गैर सरकारी संस्था को मिल कर जागरूक करने की आवष्यकता है।

स्वास्थ्य शिक्षक सोहन लाल ने बताया कि तम्बाकू के धूऐं में 5 हजार जहरीलें तत्व होते है। जो लोग धम्रपान करते है, वो तो बीमार होते ही है परन्तु जो लोग धुम्रपान नही करते वो उनके द्वारा धुम्रपान के धुऐं के सम्पर्क में आने से उन्हें भी अस्थमा, साँस के रोग और व्रोकाईरिस जैसे रोग होने केा खतरा बढ़ जाता है तम्बाकू के सेवन से कोरोना रोग का खतरा भी अधिक रहता है ।

इस अवसर पर भाषा और नारा लेखन प्रतियोगिता आयोजित की गई । भाषण में मृदुल ने पहला, आदित्या ने दूसरा तथा रूपाली ने तीसरा स्थान हासिल किया जबकि नारा लेखन में तनिषा ने पहला, अभिषेक ने दूसरा तथा आदर्श ने तीसरा स्थान हासिल किया। डा दिनेष ठाकुर तथा प्राधानाचार्य मधू वैध ने सभी विजेताओं को नगद पुरस्कार वितरित किये।