जय राम ठाकुर की मंडी के करसोग में विकास, आठ लाख की लागत से बनी पुलिया 15 दिन में ध्वस्त

मंडी जिले के करसोग हलके की चिंढ़ी-दछेहण संपर्क पर शलाग नाला पर 15 दिन पहले आठ लाख रुपये से बनी चार मीटर लंबी पुलिया मंगलवार देर रात गिर गई। लोक निर्माण विभाग ने मामले में जांच बैठा दी है। फील्ड अधिकारियों पर गाज गिरना तय है। विभाग ने ठेकेदार का भुगतान रोक दिया है।

करसोग मंडल के अधिशाषी अभियंता अरविंद कुमार भारद्वाज ने बुधवार को शलाग पहुंच वस्तुस्थिति का जायजा लिया। करीब चार मीटर स्पैन की यह पुलिया 15 दिन पहले बनकर तैयार हुई थी। इस पर से अभी हल्के वाहनों की आवाजाही हो रही थी। क्षेत्र के लोगों ने ठेकेदार व लोक निर्माण विभाग पर पुल के निर्माण कार्य में कोताही बरतने का आरोप लगाया है। इन दिनों क्षेत्र में बारिश नहीं हो रही है। सूखे में ही पुलिया का गिरना लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है। प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना (पीएमजीएसवाई) के तहत चिढ़ी से दछेहण के लिए 95 लाख की लागत से सड़क का निर्माण हो रहा है। बताया जा रहा है कि एक छोर का डंगा गिरने से पुलिया भी धराशायी हो गई। गनीमत यह रही गई घटना के समय पुलिया के ऊपर से कोई वाहन नहीं गुजर रहा था।

स्थानीय निवासी भाग चंद वर्मा का कहना है कि पुलिया निर्माण में भारी लापरवाही बरती गई है। ऐसे में ठेकेदार सहित फील्ड अधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मामले की निष्पक्ष जांच करवाने की मांग की है। मौके पर जाकर स्थिति का जायजा लिया है। अभी ठेकेदार को पुलिया निर्माण का भुगतान नहीं किया है। ठेकेदार अपने पैसे से नुकसान की भरपाई करेगा। मामले की छानबीन भी की जा रही है। फील्ड अधिकारियों की जवाबदेही तय होगी।

-अरविद कुमार भारद्वाज, अधिशाषी अभियंता लोक निर्माण विभाग करसोग मंडल।

error: Content is protected !!