उपचुनाव; विधानसभा उपाध्यक्ष ने कसा तंज, कहा, लाश की राजनीति परिवार का संस्कार

चुराह, अनिल कुमार। हिमाचल प्रदेश में चुनावी मौसम आते ही में नेताओं में अब आरोप और प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है. भाजपा नेता और विधान सभा उपाध्यक्ष हंस राज ने कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह पर निशाना साधा है. हंस राज ने विक्रमादित्य की ओर से सोशल मीडिया पर शेयर किए गए पोस्टर ‘वोट नहीं श्रद्धांजलि चाहिए’ के जरिये उन पर तीखा हमला बोला है.हालांकि पोस्टर पर समर्थकों और विपक्ष में ट्रोल होते हुए देख विधायक विक्रमादित्या ने पोस्टर को बदल दिया जिसे नया स्वरूप दिया।

लाश की राजनिति परिवार का संस्कार

आज विधानसभा उपाध्यक्ष हंस राज ने सोशल मीडिया पर विक्रमादित्य सिंह के पोस्टर को जोड़ते हुए एक पोस्टर जारी किया है और लिखा, “लाश की राजनिति परिवार का संस्कार, राजनीतिक गिद्ध’’. वहीं, साथ ही सवाल किया कि तय आप करके बताओ कि किसके संस्कारों में कमी है?

भाजपा रही दुख की घड़ी में साथ

हंसराज ने अपने पोस्टर के जरिये कहा कि वह एक गरीब नल फीटर के बेटे हैं और गरीब आदमी एक वक्त की रोटी कम खाता है, लेकिन अपने बच्चों को संस्कार और शिक्षा जरूर देता है. हंस राज ने तीखा हमला बोलते हुए नाम ना लेकर लिखा कि जब श्रद्धांजलि देने की बात थी तो तब कोरोना काल होने के बावजूद आम जनता से लेकर भाजपा परिवार इनके साथ खड़ा रहा. जेपी नड्डा और सीएम जयराम ठाकुर कार्यक्रम में मौजूद रहे. आज चुनाव की बेला आते ही संस्कार दिखने लगा है. पिता की लाश पर राजनीति करने लगे हैं. गरीब मजदूर के बेटे जयराम जी के पिता का दिया ये संस्कार था कि आदरणीय वीरभद्र सिंह की अँतिम यात्रा में कोई कमी नहीं आने दी.

कांग्रेस की अध्यक्षा सोनिया गांधी के बहाने भी लिया आड़े हाथ

हंस राज ने सोनिया के बहाने भी विक्रमादित्य सिंह को घेरा और कहा कि सोनिया गांधी शिमला में हफ्तों रहकर चली गई, लेकिन श्रद्धांजलि देने आपके घर नहीं आई. लेकिन प्रेम कुमार धूमल के ही संस्कार थे कि अनुराग ठाकुर आपके घर पहुंच कर शोक के भागीदार बने.

क्या है मामला

दरअसल, बीते कुछ माह पहले विधान सभा उपाध्यक्ष ने एक जन सभा में कहा था कि पूर्व मुख्य मंत्री वीरभद्र सिंह कांग्रेस पार्टी की धुरी रहे हैं, जिनकी वजह से कांग्रेस पार्टी कई बार अपनी सरकार बनाने में सफल रही है। लेकिन अब स्थिति ऐसी है कि कांग्रेस खेमे में हलचल मच गई है। अब कांग्रेस में छिन्ज पड़ गई है जिस पर विक्रमादित्य सिंह ने हंसराज पर निशाना साधा था और सोशल मीडिया पर लिखा कि विधायक (हंस राज) के घर में संस्कारों की कमी है, हमारी संवेदनाएं उनके साथ हैं. जवाब में विधान सभा उपाध्यक्ष ने कहा था लोगों को चुराही भाषा का ज्ञान नहीं है। उन्होंने कांग्रेस के नेताओ को नसीहत देते हुए कहा कि या तो किसी बोली का शुध्द अंत करण कर लें या सीख लें। पूर्व मुख्य मंत्री वीरभद्र सिंह कांग्रेस पार्टी की धुरी रहे हैं, जिनकी वजह से कांग्रेस पार्टी कई बार अपनी सरकार बनाने में सफल रही है। लेकिन अब स्थिति ऐसी है कि कांग्रेस खेमे में हलचल मच गई है। जिसे मेरे द्वारा एक छिन्ज का नाम दिया गया। क्योंकि कांग्रेस अलग-अलग धड़ों में अपना राग अलाप रही है। उन्होंने कहा कि मैं आज भी अपने उस ब्यान पर अडिग हूँ, जो मैंने कोंग्रेस को लेकर कहा था और चुराह के कुछ कोंग्रेसी नेताओं ने बिना वजह कीचड़ उछालने का कार्य किया है। इस पर चुटकी लेते हुए हंसराज ने कहा की जितना मर्जी कीचड़ उछाल लो कीचड़ में ही कमल खिलेगा। बस, अब डिप्टी स्पीकर ने विकमादित्य पर पलटवार किया है।

error: Content is protected !!