संविधान निर्माता भीम राव अम्बेडकर पर अभद्र टिप्पणी के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की मांग

सवर्ण आयोग के गठन की मांग को लेकर यात्रा कर रहे प्रतिनिधिमंडल के कुछ लोगों द्वारा संविधान व संविधान निर्माता डा. भीमराव अंबेडकर के खिलाफ की गई अभद्र टिप्पणियों से विभिन्न समुदाय भड़क उठे हैं। गुरुवार को वाल्मीकि समाज सभा, गुज्जर कल्याण परिषद, कबीर पंथी समाज सुधारक सभा, बंगाली समाज सभा, सैणी समाज सभा व रविदास समाज सभा ने एसपी बद्दी को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से एससी, एसटी व अन्य पिछड़ा वर्ग के संविधानिक अधिकारियों पर हमला करने वाले समाज विरोधी तत्त्वों के खिलाफ देशद्रोह व एट्रोसिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज करने की मांग उठाई गई।

ज्ञापन में कहा गया कि 23 नवबंर को बद्दी में प्रदेश के सामान्य वर्ग (सवर्ण) के कुछ समाज विरोधी तत्वों ने शिव मंदिर में बैठक कर अनुसूचित जाति, जनजाति व अन्य पिछड़ा वर्ग के संविधानिक अधिकारों पर हमला किया है। सोशल मीडिया पर हमारे संविधानिक अधिकारों को ललकारा गया तथा जाति सूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए धमकियां दी गई। संस्थाओं ने कहा कि सामान्य वर्ग अपने समाज के लिए सवर्ण आयोग बनवाना चाहता है तो हमें कोई एतराज नहीं, लेकिन हमारे अधिकारों के हनन की कोई बात सहन नहीं की जाएगी। सामान्य वर्ग के कुछ तथाकथित लोगों द्वारा बद्दी में रैली निकालकर एससी, एसटी व अन्य पिछड़ा वर्ग के अधिकारों को कुचलने की धमकियां दी गई। जिससे क्षेत्र के साथ साथ पूरे प्रदेश में सामाजिक सौहार्द व भाईचारे को बिगाडऩे का प्रयास किया गया है।

ज्ञापन के माध्यम से संस्थाओं ने एसपी बद्दी से उक्त लोगों के खिलाफ देशद्रोह व एट्रोसिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की मांग उठाई। संस्थाओं ने एल्टीमेटम दिया कि अगर एक सप्ताह के भीतर कार्रवाई नहीं होती तो उन्हें आंदोलन को मजबूर होना पड़ेगा। पूर्व प्रधान पोला राम चौधरी ने कहा कि सरकार के सामने संविधान की शवयात्रा निकाली जाती है और संविधान में मिले अधिकारों को कोसा जाता है और सरकार तमाशाबीन बनी हुई है। इस मौके पर रविदास सभा के प्रधान पारस बैंस, कबीर पंथ सभा के प्रधान केवल कृष्ण, गुज्जर कल्याण सभा के प्रधान भगवान दास चौधरी, सुरेश कुमार, मदन लाल, वीरेंद्र सिंह, बलजीत सिंह, गुरचरन सिंह, राम सिंह, चेतराम, विमल कुमार, योगेंद्र सिंह, भगत राम समेत भारी सं या में लोग उपस्थित रहे। एसपी बद्दी मोहित चावला ने कहा कि विभिन्न संस्थाओं ने मामले को लेकर ज्ञापन सौंपा है। सरकार व राज्यपाल को भी लोगों द्वारा प्रेषित ज्ञापन भेजा जाएगा। शिकायत पर जांच के उपरांत आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

Please Share this news:
error: Content is protected !!