भीम आर्मी समेत दलित संगठनों ने दिया अल्टीमेटम, कहा, क्षत्रिय संगठनों पर दर्ज हो मामला

शिमला: शिमला में क्षत्रिय संगठनों द्वारा एट्रोसिटी एक्ट की अर्थी निकालने पर बवाल थम नहीं रहा है। दलित संगठन इसके विरोध पिछले 24 घंटों से डीसी कार्यालय के बाहर धरने पर बैठे हैं और क्षत्रिय संगठनों पर मामला दर्ज करने की मांग कर रहे हैं।

मंगलावर को सुबह से ही डीसी कार्यालय में डीसी के न होने पर कार्यालय के बाहर ही दलित संगठन धरना-प्रदर्शन करने लगे और कार्रवाई न होने पर प्रदेशभर में उग्र आंदोलन करने के साथ ही हाईकोर्ट जाने की चेतावनी भी दी। भीम आर्मी भारत हिमाचल के अध्यक्ष रवि कुमार ने कहा कि 24 घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस और जिला प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। संगठन के लोग रात भर धरने पर बैठे रहे और ये धरना तब तक जारी रहेगा, जब तक क्षत्रिय संगठनों के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया जाता है। उन्होंने कहा कि विधानसभा के बाहर पुलिस के सामने ही एट्रोसिटी एक्ट की अर्थी उठाई गई और कोई कार्रवाई नहीं की गई है जबकि संविधान का अपमान किया गया है और इसके लिए देशद्रोह का मुकद्दमा दर्ज किया जाना चाहिए और जब तक मामला दर्ज नहीं किया जाता तब डीसी कार्यालय में ही धरने पर बैठे रहेंगे।

error: Content is protected !!