डीएमएफटी फंड के दुरुपयोग पर प्रशासन के खिलाफ हाई कोर्ट जाएंगे क्रेशर मालिक

Himachal News: डीएमएफटी (डिस्ट्रिक्ट मिनरल फाउंडेशन ट्रस्ट) फंड के दुरुपयोग का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। स्टोन क्रेशर यूनियन ने जिला प्रशासन पर फंड के दुरुपयोग का आरोप लगाया था जबकि जिला प्रशासन ने साफ कहा था कि यह फंड नियमानुसार सरकार की अनुमति से खर्च किया गया है। इस पर स्टोन क्रशर यूनियन के अध्यक्ष ने जिला ऊना प्रशासन से सवाल पूछते हुए कहा कि क्या सरकार ने यह विशेष अनुमति जिला ऊना के लिए ही दी है, जबकि सीमावर्ती क्षेत्र तो डमटाल और पांवटा साहिब को क्‍यों नहीं। इस फंड का इस्तेमाल धर्मकांटे लगाने के लिए हुआ।

प्रदेश में कोई एक जिला ऐसा बताएं जिसमें इस फंड को ड्रोन कैमरे खरीदने के लिए प्रयोग किया गया है। उन्होंने पूछा किया जिला ऊना के लिए खनन के क्या अलग से नियम हैं। यदि ये धर्मकांटे सही से काम भी करते तो कोई दिक्कत नहीं था लेकिन यह सिर्फ इस फंड का दुरुपयोग है।

जिला ऊना में पांच करोड़ के करीब फंड एकत्रित हुआ है, उसमें से करीब डेढ़ करोड़ प्रशासन ने अनुचित तरीके से खर्च किया है। इस मामले में अब स्टोन क्रशर यूनियन उच्च न्यायालय जाएगी फंड का दुरुपयोग करने पर जिला प्रशासन के खिलाफ अपील करेगी।

Get delivered directly to your inbox.

Join 1,139 other subscribers

error: Content is protected !!