बनखंडी से हरिपुर सड़क में करोड़ों का गोलमाल, भाजपा नेता सुकृत सागर ने अधिशाषी अभियंता से मांगा जबाब

प्रदेश में कुछ सड़के इसलिए नही बन पा रही है, क्योंकि बजट नही मिल पा रहा है। लेकिन देहरा विधानसभा में मामला कुछ अलग है। यहां बनखंडी से हरिपुर सड़क को प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के अंतर्गत अपग्रेड करना था, जिसके लिए 4 करोड़ 31 लाख का ठेका किया गया। जिसमे 3 करोड़ 84 लाख सड़क निर्माण के लिए तथा 46 लाख पांच साल के रख रखाव के लिए खर्च होने थे। लेकिन करोड़ों खर्च करने के बाद इस सड़क पर नई बनाई गई सारी की सारी पुलियां जमीन में धंस गई और एक महीने में ही सड़क की टारिंग उखड़ना शुरू हो गई। जिससे लगता है कि इस सड़क निर्माण में भ्र्ष्टाचार हुआ है, जिसकी वजह से सड़क निर्माण की गुणवत्ता से समझौता किया गया है।

इस सड़क के घटिया निर्माण पर हिसाब लेने आज देहरा भाजपा नेता डॉ सुकृत सागर लोक निर्माण विभाग देहरा के अधिशासी अभियंता के कार्यालय पहुंचे। अधिशासी अभियंता से सबाल जबाब के बाद डॉ सुकृत ने कहा कि लोग काफी दिनों से उन्हें इस सड़क में हुए भ्र्ष्टाचार व इस सड़क के घटिया निर्माण के बारे में बता रहे थे। उन्होंने कहा कि जो उन्हें शुरुआती तथ्य पता चले है, उनसे ऐसा लगता है कि इस सड़क निर्माण में भारी लापरवाही हुई है। डॉ सुकृत ने बताया कि इस सड़क निर्माण के लिए डीपीआर तथा कॉन्ट्रैक्ट अग्रीमेंट के हिसाब से 4682.66 क्यूबिक मीटर खुदाई होनी थी। लेकिन विभाग ने बिल बना दिया 12694.95 क्यूबिक मीटर का, जिसकी एवज में सरकार को 19 लाख की चपत लग गई। इसके बाद रिटेनिंग बॉल, ब्रैस्ट बॉल, कलवर्ट ड्रेन्स और पैराफिट इत्यादि के लिए 2987.47 क्यूबिक मीटर खुदाई होनी थी। लेकिन ठेकेदार ने सिर्फ कलवर्ट ड्रेन्स ही बनाई, जिसके बाबजूद विभाग ने 3522.33 क्यूबिक मीटर की खुदाई का बिल बना कर ठेकेदार को पेमेंट कर दी।

डॉ सुकृत ने बताया कि डीपीआर के हिसाब से आरसीसी स्लैब कलवर्ट बननी थी, लेकिन विभाग ने गुणवत्ता से समझौता करते हुए ह्यूम पाइप कलवर्ट बना दी। इस सड़क पर 24 पासिंग प्लेसिस बनने थे, लेकिन एक भी नही बनाया। डीपीआर के हिसाब से 3271 क्यूबिक मीटर डंगे लगने थे, लेकिन 1 क्यूबिक मीटर भी डंगा नही लगा। इसके अतिरिक्त 30 लाख से 7.145 किलोमीटर नालियां बननी थी, लेकिन विभाग ने 1 इंच भी नालियां नही बनाई। साथ ही 239 क्यूबिक मीटर के 500 पैराफिट लगने थे, लेकिन एक भी नही लगा। 580 मीटर सीसीपी (सीमेंटेड सड़क) डालनी थी, लेकिन एक इंच भी नही डाली गई है। 600 मीटर इंटरलॉकिंग पेवर्स ब्लॉक डालने थे, अभी नही डालें गए हैं।

डॉ सुकृत ने बताया कि इस सड़क बनाने में मुख्यतः सात तरह के निर्माण टेंडर अग्रीमेंट में लिए गए थे, लेकिन अभी तक सिर्फ टारिंग ही हुई है, जबकि ठेकेदार को लगभग 2 करोड़ 43 लाख की पेमेंट की जा चुकी है। अब 3 करोड़ 84 लाख के टेंडर में बची हुई राशि से बाकी का निर्माण कैसे होगा इस पर सवालिया निशान है। डॉ सुकृत ने कहा कि अधिकारी यह न समझे कि यह कांग्रेस की सरकार है और वह भ्र्ष्टाचार करके बच जाएंगे। उन्होंने कहा कि यह जयराम नेतृत्व वाली भाजपा की सरकार है, जिसमे लापरवाही व भ्र्ष्टाचार बिल्कुल भी बर्दाश्त नही किया जाएगा। डॉ सुकृत ने कहा कि मै जब कहता था कि यब कार्य अच्छा नही हो रहा है तो स्थानीय विधायक बोलते थे कि यह काम रुकवा रहे है।

उन्होंने इस कार्य मे लोगों को गुमराह किया है विधायक ने खुद खड़े हो कर इस सड़क का कार्य करवाया है तथा अब वह इसकी जिमेवारी लें। इस मौके पर नगर परिषद देहरा उपाध्यक्ष मलकीत परमार, भाजपा जिला उपाध्यक्ष महिंदर चौहान, हरिपुर व्यपार मंडल अध्यक्ष व भाजपा जिला कार्यकारिणी सदस्य अतुल महाजन, भाजपा मंडल सचिव परवीन कुमार, भाजपा एन जी ओ प्रकोष्ठ के अध्यक्ष विजेंदर गुलेरिया, मेहवा पंचायत प्रधान, तृप्ता देवी आदि मजूद रहे।

इस समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें:

error: Content is protected !!