Apple Fraud: हिमाचल में बागवानों से करोड़ों की लूट, अब तक 112 मामले दर्ज

शिमला। Himachal Apple Fraud, हिमाचल प्रदेश में करीब पांच हजार करोड़ की सेब आर्थिकी में लूट का नया तरीका सामने आया है। पहले बागवानों को आढ़ती लूटते थे।

इसी लूट से जुड़ा तकरीबन ढाई सौ करोड़ का गड़बड़झाला उजागर हो चुका है, लेकिन अब सब उल्टा हो गया है। आढ़तियों को कारोबारी लूटने लगे हैं। इन्हें लदानी भी कहा जाता है। डीजीपी कार्यालय की अनुमति के बाद अब दो मामले जांच के लिए सीआइडी को सौंपे हैं। इनमें से पहला कुमारसैन और दूसरा ठियोग थाने का है। पुलिस ने करीब डेढ़ करोड़ का चूना लगाने को लेकर दो मामले दर्ज किए थे। इनकी दोनों मामलों की जांच स्टेट सीआइडी करेगी। अब भी कई लदानी ऊपरी शिमला से फरार होने लगे हैं। आरोपित अन्य राज्यों के हैं। कृषि उपज मंडी समिति (एपीएमसी) लदानियों का मंडियों में कोई उचित रिकार्ड नहीं रखती है, इस कारण वे फरार होने में कामयाब हो रहे हैं।

अन्य राज्यों का रुख करेगी सीआइडी

सीआइडी अब तीन आरोपितों की तलाश में अन्य राज्यों का रुख करेगी। प्रभावित बागवानों के बयान भी दर्ज होंगे। एक तो दाम कम मिल रहे हैं, ऊपर से लूट जारी रहने के कारण बागवान परेशान हैं।

112 एफआइआर में भी कई लदानी आरोपित

सीआइडी के पास पहले से दर्ज 112 एफआइआर में पहले से ही कई लदानी आरोपित हैं। इन्हें कई बार नोटिस भेजे गए हैं। लेकिन अब अगर सहयोग नहीं किया तो इनके खिलाफ शिकायतों में भी एएफआइआर दर्ज होंगी और साथ में गिरफ्तारियां भी होंगी।

114 हो जाएगी एफआइआर की संख्या

सेब बागवानों से धोखाधड़ी को लेकर पहले 112 मामले दर्ज हैं। आढ़तियों के दो मामले आने से कुल संख्या 114 हो जाएगी। अभी तक सीआइडी के पास किसी भी मामले में ये रिकार्ड एफआइआर दर्ज हुई हैं। पहले इतनी बड़ी संख्या में न तो कोई कार्रवाई हुई और न ही एफआइआर। एफआइआर सीआइडी क्या पुलिस भी दर्ज नहीं करती थी। वे इसे लेनदेन से जुड़ा सिविल मैटर मानती थी, लेकिन पिछले दो वर्ष से लगातार कार्रवाई हो रही है। जांच एजेंसी बागवानों के पैसे डकारने के मामले को आपराधिक मामला मानने लगी हैं।

शातिरों पर कसा जाएगा शिकंजा : एसपी

एसपी सीआइडी एवं एसआइटी प्रमुख वीरेंद्र कालिया का कहना है राज्य पुलिस मुख्यालय की अनुमति से हमारे पास दो मामले आए हैं। इनकी गहन जांच होगी और जल्द ही आरोपितों पर शिकंजा कसा जाएगा।

इस समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें:

error: Content is protected !!