ठेकेदार को लेटलतीफी करना पड़ा भारी, सड़कों का काम लटकाने पर टेंडर रद्द और भरना पड़ेगा 2.90 करोड़ जुर्माना

हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में किसी सरकारी विभाग ने काम में लेटलतीफी करने वाले ठेकेदार को दो करोड़ नब्बे लाख का जुर्माना ठोंका है। साथ ही ठेकेदार को आवंटित किए गए चार टेंडरों को भी रद्द कर दिया गया है। यह कार्रवाई लोक निर्माण विभाग चंबा मंडल की ओर से की गई है। विभाग की ओर से ऑनलाइन टेंडर प्रक्रिया के माध्यम से चार सड़कों को बनाने का टेंडर आवंटित किया गया था लेकिन, ठेकेदार सड़कों के निर्माण कार्य में लेटलतीफी कर रहा था।

कार्य को एग्रीमेंट के अनुसार समय पर पूर्ण करने के लिए विभाग ने कई बार ठेकेदार को नोटिस जारी किए लेकिन, ठेकेदार ने विभाग के नोटिस को दरकिनार करते हुए सड़कों के कार्यों में तेजी नहीं दिखाई। इसके चलते लोनिवि के अधिशासी अभियंता ने ठेकेदार को दो करोड़ नब्बे लाख की पेनल्टी लगाने के साथ ही टेंडर रद्द करने की रिपोर्ट बनाकर विभाग के मुख्य अभियंता को भेजी। मुख्य अभियंता ने विभागीय रिपोर्ट के आधार ठेकेदार की लापरवाही पर कड़ा संज्ञान लेते हुए उसके टेंडरों को रद्द करने के आदेश दिए। साथ ही ठेकेदार को दो करोड़ नब्बे लाख का जुर्माना भी लगाने के आदेश दिए। 

लोनिवि की ओर से ठेकेदार को टेंडर रद्द करने और जुर्माने के बारे में सूचित किया जा चुका है। अब विभाग ठेकेदार को आवंटित किए गए सड़कों के कार्यों को पूर्ण करवाने के लिए नए सिरे से टेंडर करवाएगा। लोनिवि की इस कार्रवाई से जिले के अन्य ठेकेदारों में हड़कंप मच गया है क्योंकि जिला चंबा के विभिन्न मंडलों में ठेकेदार लेटलतीफी से सड़कों सहित अन्य विकासात्मक कार्य करवा रहे हैं। ऐसे में ठेकेदार के ऊपर इस तरह विभाग की ओर से कड़ी कार्रवाई होने पर अन्य ठेकेदारों में डर का माहौल है। वहीं, आम लोग लोनिवि चंबा मंडल की ओर से की गई कार्रवाई की तारीफ भी कर रहे हैं। क्योंकि संबंधित इलाकों के लोग बार-बार ठेकेदार की लेटलतीफी को लेकर अधिशासी अभियंता से शिकायत कर रहे थे। 

इन सड़कों के कार्य को लेकर विभाग ने की कार्रवाई
ठेकेदार की ओर से रजेरा-बैली, साच-फतेहपुर, सनोथा और घार के लिए सड़कों का निर्माण कार्य करवाया जा रहा था। लेकिन, ठेकेदार टेंडर एग्रीमेंट के अनुसार सड़कों का निर्माण कार्य समय पर पूर्ण नहीं कर रहा था। कछुआ गति से सड़कों का कार्य करवाया जा रहा था, जिसको लेकर विभाग ने कार्रवाई को अंजाम दिया। लोनिवि के अधिशासी अभियंता जीत सिंह ठाकुर ने बताया कि चार सड़कों के निर्माण में लेटलतीफी और टेंडर एग्रीमेंट की अवहेलना करने पर ठेकेदार को दो करोड़ नब्बे लाख का जुर्माना लगाया गया है। साथ ही ठेकेदार के टेंडर को भी रद्द किया गया है। यह कार्रवाई विभाग के मुख्य अभियंता के आदेशानुसार अमल में लाई गई है। 

इस समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें:

error: Content is protected !!