कांग्रेस का जयराम सरकार पर बड़ा हमला, लगाए भ्रष्टाचार के आरोप

हिमाचल में होर्डिंग प्रकरण के बाद सक्रिय हुए कांग्रेस के एक खेमे ने कल नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री के शिमला स्थित आवास में एकजुटता का प्रदर्शन करने के बाद आज जयराम सरकार पर आरोपों की बारिश की है।

सरकार पर कोविड-19 सामग्री खरीद में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार के आरोपों के साथ मेकशिफ्ट अस्पताल के लिए अधिक दामों पर बीजेपी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं की जमीनें लीज पर लेने का भी आरोप जड़ा है। हिमाचल सरकार के टीकाकरण अभियान पर भी सवाल खड़े किए हैं और कोविड मृत्यु के आंकड़ों को छुपाने का भी आरोप लगाया है। मांग की है कि कोविड से मृतक के परिजनों को 4 लाख का मुआवजा दिया जाए। आज नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, पूर्व मंत्री कौल सिंह ठाकुर, विधायक आशा कुमारी, पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा व विधायक विक्रमादित्य सिंह ने संयुक्त प्रेसवार्ता में जयराम सरकार की जमकर घेराबंदी की। इस अवसर पर सुभाष मंगलेट भी मौजूद रहे।

उक्त कांग्रेसी नेताओं का कहना था कि हिमाचल में एक महीने में ही 1,800 लोगों ने जान गंवाई है। अब तक 3,200 से अधिक लोगों की दुखद मृत्यु हुई है। इसमें भी सरकार कोरोना काल में मौत के आंकड़ों को छिपा रही है। विपक्ष ने कहा कि कोविड सामग्री खरीद में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हो रहा है। भाजपाइयों को आपदा में अवसर देकर खुली लूट मचा रखी है। 4 करोड़ के लागत से मेकशिफ्ट अस्पताल बनाएं जा रहे हैं और इसमें भी बीजेपी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों की जमीनें भारी भरकम कीमत पर लीज पर ली जा रही हैं।

नेता प्रतिपक्ष मुकेश ने कहा कि कोरोना माहमारी के मुश्किल दौर में सरकार अपनी गिरती छवि बचाने के लिए करोड़ों रुपये खर्च कर मीडिया एजेंसी हायर कर अपने चेहतों को फायदा पहुंचाने में जुटी हुई है। वहीं, तेल और खाद्यान्नों की कीमतों के आसमान छूने के साथ ही गैस सिलेंडर को कीमतें दोगुनी हो गई हैं। सरकार की छवि बनाने के लिए इवेंट मैनेजमेंट कंपनी को जनसंपर्क विभाग का काम ठेके पर दिया जा रहा है। कौल सिंह ठाकुर में कहा कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा बनाए जा रहे कोविड सेंटरों, मेकशिफ्ट अस्पतालों में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हुआ है। दवा खरीद और कोविड से लड़ने के लिए जरूरी साजो सामान में भी बाजार कीमतों पर खरीद हुई है, जिसकी जांच होनी चाहिए। जबकि हेल्थ डिपार्टमेंट में घोटाला होने के चलते पूर्व स्पीकर और बीजेपी अध्यक्ष डॉ . राजीव बिंदल को इस्तीफा देना पड़ा था, जबकि निदेशक स्वास्थ्य को जेल की हवा खानी पड़ी थी।

कौल सिंह ने सीएम पर भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों को संरक्षण देने की भी बात कही। कांग्रेस नेताओं के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों को साबित करने की चुनौती दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में आज ठेकेदार माफिया सक्रिय है। खनन माफिया प्रदेश को खोखला कर चुका है। कांग्रेस नेता आशा कुमारी ने कहा कि प्रदेश सरकार बेशक वेंटिलेटर और बाकी व्यवस्था के दुरुस्त होने के दावे कर रही है, जबकि व्यवस्था चलाने के लिए मैनपावर नहीं है।


error: Content is protected !!