फर्श पर तड़पती रही कोरोना संक्रमित महिला, गुजर गया जयराम का काफिला, मचा बवाल

सिरमौर। हिमाचल प्रदेश में जारी कोरोना वायरस के कहर के बीच जहां सूबे में रोजाना हजारों लोग इस गंभीर महामारी की चपेट में आ रहे हैं। वहीं, प्रदेश सरकार द्वारा इस स्थिति पर नियंत्रण पाने के लिए कई तरह के प्रयास करने के दावे किए जा रहे हैं लेकिन स्थिति कहीं से भी संभलती नजर नहीं आ रही है। इस सब के बीच प्रदेश के सिरमौर जिले स्थित नाहन से एक चौंकाने वाले रिपोर्ट सामने आ रही है। दरअसल, एक मीडिया रिपोर्ट में इस बात का दावा किया गया है कि शुक्रवार को सीएम जयराम ठाकुर नाहन पहुंचे और अधिकारियों के साथ कोरोना समीक्षा बैठक की। इसके बाद उन्होंने नाहन मेडिकल कॉलेज के निर्माणाधीन भवन का निरीक्षण किया। इसके बाद वह सीधे नाहन मेडिकल कॉलेज पहुंचे।

सीएम ने इमरजेंसी कक्ष और आईसीयू का जायजा लिया। हैरान करने वाली बात यह थी कि आईसीयू पूरा खाली था और कोरोना से पीड़ित मरीज सड़कों पर पड़े थे।

मुंह मोड़ कर निकल गए सीएम जयराम
रिपोर्ट्स में बताया गया कि एक कोरोना संक्रमित फर्श पर तड़प रही थी। महिला के परिजन रोते-बिलखते रहे मगर मुख्यमंत्री उनके ठीक आगे से मुंह मोड़ते हुए निकल गए। एक कोरोना संक्रमित महिला के परिजन रोते-बिलखते रहे मगर सीएम उनके ठीक आगे से मुंह मोड़ते हुए निकल गए। मेडिकल कॉलेज प्रबंधन की लापरवाही को लेकर मरीजों के परिजनों ने सीएम के आगे जमकर गुबार निकाला। कोरोना संक्रमित मरीज की तीमारदार महिला ने मुख्यमंत्री को बताया कि कोविड-19 वार्ड में केवल नर्स और सफाई कर्मचारी ही उनकी देखरेख करते हैं। जबकि डॉक्टर कभी भी उनके वार्ड में निरीक्षण करने नहीं आते हैं। बता दें कि जिला सिरमौर में लगातार कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है।सीएम से एक महिला जिसके पति की हालत बेहद खराब है और कुछ ऐसे भी थे जिनके परिवार के कुछ लोग कोरोना से मर चुके थे। उनके मृतक शरीर के साथ जो डॉक्टरों ने खिलवाड़ किया उसको लेकर भी स्थिति से अवगत कराया गया। इन पीड़ित परिजनों ने मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों पर गंभीर आरोप लगाते हुए नर्सिंग स्टाफ की जमकर तारीफ भी की।बताया गया कि जब मुख्यमंत्री शुक्रवार को जिला सिरमौर के प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक लेने पहुंचे थे, तो उसी दौरान कोविड-19 आइसोलेशन सेंटर में हुए रोगी की मौत के बाद उनके परिजनों ने हंगामा किया।

जैसे ही मुख्यमंत्री का काफिला मेडिकल कॉलेज के कोविड-आइसोलेशन सेंटर के बाहर पहुंचा, तो मृतक की पत्नी ने मुख्यमंत्री के समक्ष डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए रो-रोकर दुखड़ा सुनाया।पांवटा की महिला ने मुख्यमंत्री को बताया कि मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों की लापरवाही से उसने अपने पति को खो दिया है। इसी दौरान कोविड आइसोलेशन सेंटर के कुछ वीडियो भी वायरल हो रहे हैं।

जिसमें लोगों के परिजन डॉक्टरों पर लापरवाही के आरोप लगा रहे हैं। वायरल वीडियो में परिवार के सदस्यों का आरोप है कि तीन-तीन दिन तक कोई भी डॉक्टर आइसोलेशन सेंटर में रोगियों की जांच करने नहीं आता है।

error: Content is protected !!