45 घंटे सर्च ऑपरेशन के बाद मिली बच्चे की खोपड़ी, पोस्टमार्टम का इंतजार

शिमला. राजधानी शिमला स्थित डाउन डेल (Down Dale) से दिवाली की रात गायब हुए बच्चे का सुराग मिल गया है. करीब 45 घंटे तक चलाए गए सर्च अभियान के बाद पुलिस और वन विभाग की टीम को यह कामयाबी मिली है.

शनिवार करीब साढ़े तीन बजे के आसपास पुलिस की डॉग स्क्वायड टीम को लालपानी पुल (Lalpani Bridge) के पास जंगल में बच्चे का सर (Head) मिला है. यह स्थान बच्चे के घर से करीब 300 मीटर की दूरी पर है. वहीं, बच्चे का अन्य हिस्सा नहीं मिल पाया है.

उधर, एसएचओ सदर संदीप चौधरी का कहना है कि दिवाली की रात से लगातार पुलिस की टीम सर्च अभियान चलाए हुए थी. जिसके बाद आज करीब 45 घंटे के बाद एक बच्चे की एक खोपड़ी मिली है, जिसे कब्जे में ले लिया गया है. अब कल पोस्टमार्टम के लिए उसे आईजीएमसी भेजा जाएगा. उन्होंने बताया कि अभी यह कहना जल्दबाजी होगी कि यह सर उसी बच्चे का है या किसी और का. यह तो पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही पता चल पाएगा.

बच्चे को खोने के बाद पिता हुए गमगीन
उधर, बच्चे के पिता केदारनाथ ने कहा कि अब तक 2 दिनों से बच्चे का कोई सुराग नहीं मिल पा रहा था. लेकिन अब जब बच्चे का कुछ हिस्सा पुलिस की टीम को मिला है तो उसके बाद यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह उनके बेटे का ही हिस्सा हो सकता है. वे इस हादसे से बहुत गमगीन हैं. उन्होंने जंगल के साथ रहने वाले रिहायशी लोगों से आग्रह किया है कि वे अपने बच्चों का ख्याल रखें. उन्होंने कहा कि जिस तरह से उन्होंने अपने बच्चे को खो दिया है उसी तरह कोई दूसरा भी अपने बच्चे को न खोए. उधर, बच्चे के दादा का भी यह कहना है कि वे अपने पोते को इस तरह से खोने से बहुत दुखी हैं. लेकिन शहर में जिस तरह से जंगली जानवरों का आतंक लगातार बढ़ता जा रहा है, उस पर सरकार और विभाग को कड़े कदम उठाने की जरूरत है .

विभाग ने लगाए ट्रैप कैमरे और पिंजरा
उधर, वन्यजीव विभाग के डीएफओ रविशंकर का कहना है कि अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि पुलिस की टीम को खोपड़ी मिली है वह उसी बच्चे की है या किसी और की. इसका पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही लग पाएगा. लेकिन वन विभाग की टीम अपनी ओर से तेंदुए को पकड़ने के लिए जगह- जगह पर ट्रैप कैमरे और पिंजरा लगाए हुए है और जल्द ही तेंदुए को पकड़ लिया जाएगा.

रिहायशी क्षेत्रों में जालबन्दी करने की मांग

उधर, वार्ड पार्षद जगजीत सिंह बग्गा का कहना है कि शिमला शहर में अब जंगली जानवरों का आतंक लगातार बढ़ता जा रहा है. बीते 3 माह के अंदर यह दूसरा मामला है, जहां एक बच्चे को दिवाली के दिन तेंदुआ उठाकर ले गया. लेकिन अभी यह कहना सही नहीं है कि यह जो पुलिस की टीम को एक बच्चे का सिर मिला है यह उसी बच्चे का है या किसी और का. यह तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही पता चलेगा. उन्होंने कहा कि जंगली जानवरों का आतंक शहर में लगातार बढ़ता जा रहा है और आए दिन तेंदुए आदमखोर बनते जा रहे हैं. उस पर वन विभाग को कड़े कदम उठाने चाहिए. उन्होंने वन विभाग से रिहायशी क्षेत्रों में लगते जंगल में जालबन्दी करने की मांग की है और साथ ही कहा है कि यदि यह हमला तेंदुए का है तो उसे आदमखोर घोषित कर मार देना चाहिए.

HOTEL FOR LEASEHotel New Nakshatra

Hotel News Nakshatra for Lease. Awesome Property with 10 Rooms, Restaurant and Parking etc at Kullu.

error: Content is protected !!