Treading News

खेल खेल में ट्रेन पर चढ़े बच्चे कालका से पहुंचे शिमला, पुलिस ने किया रेस्क्यू

शिमला: कालका से 5 बच्चे खेल-खेल में ट्रेन से शिमला पहुंच गए। इन बच्चों में एक लड़का और 4 लड़कियां शामिल हैं। लड़कियों की उम्र 12, 7, 3 और 2 साल है जबकि लड़का 4 साल का है।

ये बच्चे मंगलवार को कालका से ट्रेन में बैठ गए और शिमला पहुंच गए। शिमला में पुलिस ने बच्चों को ट्रेन से रैस्कयू किया और सीडब्ल्यूसी चैयरमेन को इस बारे में जानकारी दी। शुक्रवार को हरियाणा स्टेट क्राइम ब्रांच की एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग की टीम के प्रयासों से ही इन बच्चों को इनके अभिभावकों से मिलाया गया। एएसआई राजेश कुमार ने बताया कि इन 5 बच्चों को शिमला में बरामद कर परिवार को सौंप दिया है।

सीडब्ल्यूसी चेयरपर्सन की ओर से मिली जानकारी के अनुसार 25 मई को ये बच्चे राते एक बजे के करीब लावारिस हालत में मिले थे। रोते हुए बच्चे बार-बार बस कालका का नाम ले रहे थे। एएसआई राजेश कुमार ने बच्चों की फोन के माध्यम से काऊंसलिंग की और कालका में उन बच्चों के परिवार को तलाश लिया। इन बच्चों के परिवार कालका रेलवे स्टेशन के साथ लगते श्मशानघाट के पास की झुग्गी में रहते हैं। लापता बच्चों में से 2 बच्चियों की मां अपाहिज है। वहीं बाकी बच्चों के अभिभावक भी मजदूरी करते हैं। बच्चों के बारे में जानकारी मिलने के बाद ही अभिभावकों की जान में जान आई।

हरियाणा स्टेट क्राइम ब्रांच की एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग की टीम के साथ बच्चों की मां और मौसा शिमला पहुंचे। बच्चों के मौसा रविन्द्र ने बताया कि बच्चों को खोजने के लिए उन्होंने स्थानीय जगहों पर ही छानबीन की लेकिन पुलिस में कोई शिकायत नहीं की, ऐसे में वे टीम का धन्यवाद करते हैं कि इतने कम समय में बच्चों को सही सलामत ढूंढ निकाला।