छात्रवृति घोटाला; जल्दी सीबीआई कसेगी चार निजी शिक्षण संस्थानों पर शिकंजा

बहुचर्चित छात्रवृत्ति घोटाले में 3 से 4 निजी शिक्षण संस्थानों के खिलाफ जल्द ही सीबीआई का शिकंजा कस सकता है। सूत्रों के अनुसार संबंधित संस्थानों से जुड़ा अधिकतर रिकॉर्ड खंगालने की प्रक्रिया लगभग पूरी हो चुकी है और अब जांच को आगे बढ़ाते हुए पूछताछ की प्रक्रिया अमल में लाए जाने की तैयारियां चल रही हैं।

सीबीआई की अलग-अलग टीमें मामले की जांच में जुटी हुई हैं। पूरे घोटाले की तह खंगालने के लिए शिक्षा निदेशालय के साथ ही बैंकों से भी रिकॉर्ड कब्जे में लिया जा रहा है।

कुछ बैंकों के मुलाजिमों की कार्यप्रणाली भी संदेह के घेरे में

सूत्रों की मानें तो करोड़ों रुपए के घोटाले में निजी संस्थानों के प्रबंधकों के साथ ही कुछ बैंकों के मुलाजिमों की कार्यप्रणाली भी संदेह के घेरे में है, ऐसे में हरेक पहलू को गंभीरता से खंगाला जा रहा है। कुछ के बयान दर्ज किए जाने की भी सूचना है। प्रदेश में सामने आए स्कॉलरशिप घोटाले में 22 से अधिक निजी संस्थान पर करोड़ों रुपए की छात्रवृत्ति राशि हड़पने का आरोप है। सीबीआई अब तक 11 के खिलाफ जांच को अमलीजामा पहनाते हुए अदालत में चालान भी पेश कर चुकी है। बताया गया है कि अन्य संस्थानों से जुड़े मामलों में भी जांच पूरी होने पर अलग-अलग चार्जशीट दायर की जाएगी।

ईडी की जांच भी जारी, संपत्तियां होंगी अटैच

जांच में मिले साक्ष्य के आधार पर सीबीआई कुछ निजी शिक्षण संस्थानों सहित अन्यों के बैंक खातों को भी सीज कर चुकी है। इसके साथ ही ईडी भी जांच में जुटी हुई है। आने वाले समय में ऐसी संपत्तियां भी अटैच हो सकती हैं, जो छात्रवृत्ति घोटाले को अंजाम देकर बनाई गई हैं। कई संपत्तियों का जांच में पता लग चुका है और इस संबंध में दस्तावेज भी हाथ लगे हैं।

error: Content is protected !!