एसआईयू टीम के जवान की जेब से भांग बरामद, परिजनों का आरोप, झूठे केसों में फंसाती है पुलिस; देखें वीडियो

Drugs issue in Mandi: हिमाचल के मंडी जिले में यह मामला सामने आया है. मंडी की पुलिस अधीक्षक शालिनी अग्रिहोत्री ने कहा कि एसआईयू की टीम गुप्त सूचना पर ही युवक के घर छापामारी के लिए गई थी, इसके बाद जो कुछ भी हुआ है कि उसकी पूरी जांच करवाई जाएगी.

मंडी. हेरोइन की बरामदगी के लिए पुलिस के जवान सादी वर्दी में घर में पहुंचे. लेकिन एक जवान जेब में चरस लेकर आया था. परिवार वालों ने हंगामा कर दिया. आरोप लगाया कि पुलिस उन्हें फंसाना चाहती है. पुलिस जवानों की तलाशी ली तो एक जवान (Mandi Police) के पास चरस बरामद हुई. ऐसे में पुलिस की कार्यप्रणाली सवालों में आ गई और उसे बेरंग लौटना पड़ा. मामला हिमाचल प्रदेश के मंडी (Mandi) जिले का है.

जानकारी के अनुसार, मंडी जिले के सुंदरनगर में चिट्टे की गुप्त सूचना पर नगर परिषद क्षेत्र में छापामारी के लिए पहुंची मंडी जिला पुलिस की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन यूनिट की टीम स्वयं ही टीम के एक सदस्य के पास चरस मिलने पर घिर गई. टीम सदस्य के पास चरस मिलने पर घर के लोगों ने जमकर हंगामा कर दिया. बाद में टीम को युवक को क्लीन चिट देकर अपना पल्ला झाडऩा पड़ा. मामले की वीडियो भी वायरल हुए हैं. इसमें परिजन आरोप लगा रहे हैं कि पुलिस उन्हें फंसाना चाहती थी. इस दौरान पुलिस जवान और घर के लोगों में जमकर बहसबाजी भी हुई.

दरअसल, एसआईयू की टीम को सूचना मिली थी कि नगर परिषद के एक वार्ड का युवक चिट्टा बेचने का काम करता है और उसके पास एक दिन पहले ही चिट्टे की भारी खेप पहुंची है. सूचना मिलने के बाद टीम के सदस्य वार्ड पार्षद और कुछ अन्य लोगों को साथ लेकर युवक के घर पहुंच गई. पुलिस टीम के पहुंचने की सूचना मिलते ही वहां आस पड़ोस के लोग भी पहुंच गए.

जवान की जेब से मिली भांग

युवक के परिजनों का कहना है कि पुलिस जान-बूझकर उनके बेटे को झूठे केस में फंसाना चाहती है, इसीलिए पहले से ही उन्होंने अपने पास भांग रखी हुई थी. इसी पूरी कार्रवाई के वीडियो भी मौके पर मौजूद लोगों ने सोशल मीडिया पर वायरल कर दिए हैं. पुलिस अधीक्षक शालिनी अग्रिहोत्री ने कहा कि एसआईयू की टीम गुप्त सूचना पर ही युवक के घर छापामारी के लिए गई थी, इसके बाद जो कुछ भी हुआ है कि उसकी पूरी जांच करवाई जाएगी.

Please Share this news:
error: Content is protected !!