कार्टन के दाम बढ़ाने और किसानों को मुआवजा न मिलने पर भड़के कांग्रेसी जिला परिषद, बैठक में हंगामा

Himachal News. कार्टन के दाम बढ़ाने और किसान बागबानों को मुआवजा न मिलने पर मंगलवार को जिला परिषद की मासिक बैठक में जिला परिषद सदस्यों ने जमकर हंगामा किया। बैठक शुरू होते ही कांग्रेस के जिला परिषद सदस्य कौशल मुंगटा सदन के बीच में आकर धरने पर बैठ गए और सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी इस बीच जिला परिषद के अन्य सदस्यों ने भी उनका समर्थन किया और धरने पर बैठ गए। काफी देर तक सदस्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते रहे और उसके बाद बैठक की कार्रवाई से वाकआउट कर बाहर निकल गए।

जिला परिषद के तहत बनाई गई उद्योग व बागबानी कमेटी के अध्यक्ष कौशल मुंगटा ने कहा कि सरकार बागवानों की अनदेखी कर रही है, पहले जहां बेमौसमी ओलावृष्टि और बर्फबारी से नुकसान हुआ था उसका मुआवजा अभी तक नही मिला। वहीं अब सेब सीजन शुरू होते ही सरकार ने बागबानों को राहत देने के बजाय उनकी मुश्किलें बढ़ा दी है ।

कार्टन के दामो में 25 रुपए तक बढ़ोतरी कर दी है। जिससे बागबानों पर इसका अतिरिक्त बोझ पढऩे वाला है। इसको लेकर कई बार जिला उपायुक्त ओर सरकार के ध्यान में ये मामला लाया गया लेकिन सरकार इसको लेकर गंभीर नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि कार्टन के दाम कम नहीं हुए और मुआवजा किसानों और बागबानों को नहीं मिला तो वो कमेटी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे देंगे। वहीं जिला परिषद उपाध्यक्ष सुरेंद्र रेटका ने कहा कि मंगलवार को जिला परिषद की बैठक बुलाई गई थी लेकिन बैठक में कोरम पूरा नही हो पाया वही सदस्यों ने कार्टन के दाम कम करने और मुआवजा देने को लेकर धरना प्रदर्शन किया और इस मामले को लेकर जिला परिषद जिला उपायुक्त के माध्यम से सरकार से दामों को कम करने की मांग करेगी । उन्होंने कहा कि शिमला सेब बहुल जिला है । लेकिन इस बार ओलावृष्टि और बर्फबारी के चलते काफी नुकसान हुआ है लेकिन सरकार की ओर से कोई भी राहत बागबानों को नहीं दी गई है।

Get delivered directly to your inbox.

Join 61,628 other subscribers

error: Content is protected !!