Treading News

मुख्यमंत्री से नाराज नर्सरी टीचर ट्रेनिंग की अभ्यर्थी पहुंची शिमला, जल्द भर्ती की उठाई मांग

शिमला। हिमाचल प्रदेश के स्कूलों में नर्सरी टीचर टीचिंग ट्रेनिंग (एनटीटी) (Nursery Teacher Teaching Training) (NTTT) करने वाले हजारों अभ्यर्थी स्कूलों में प्राइमरी के पदों पर भर्ती ना होने से नाराज हैं।

अपनी इस मांग को लेकर प्रशिक्षित अध्यापिका संघ ने सीएम जयराम ठाकुर ने उनके आवास ओक ओवर में उनसे मुलाकात की। संघ से जुड़ी सदस्यों ने सीएम जयराम ठाकुर के समक्ष मांग रखी कि स्कूलों में प्री-प्राइमरी के पदों पर एनटीटी को प्राथमिकता दी जाए और जल्द से जल्द उनकी भर्तियां की जाए।

बता दें कि इससे पहले भी एनटीटी कई बार अपनी मांग प्रदेश सरकार के समक्ष उठा चुकी हैं। जिला मंडी से एनटीटी शिक्षक वंदना गौतम का कहना है कि उन्होंने 20 साल पहले एनटीटी डिप्लोमा किया था। पहले एनटीटी एक साल की थी और जो आरएमपी रूल में आया है वह दो साल की मान्य किया गया है। उन्होंने बताया कि आज अपनी मांगों को लेकर वे सीएम जयराम ठाकुर से मिले हैं। उन्होंने एक साल का डिप्लोमा मान्य होने, आयु 45 वर्ष तक और बैच वाइज भर्तियां करने की मांग की है।

वंदना गौतम ने कहा कि प्रदेश में एनटीटी करीब 15000 डिप्लोमा धारक हैं। लंबे समय से इन भर्तियों में देरी हो रही थी। उन्होंने कहा कि 23 साल से वह एनटीटी होल्डर हैं और 2 साल से उम्मीद देख रहे हैं। पीएम नरेंद्र मोदी ने नई शिक्षा नीति लागू की है। जिसके तहत प्रदेश में प्री प्राइमरी खुल गई, लेकिन अभी तक टीचर नहीं रखे गए। ऐसे में काफी लंबे समय से वह मांग कर रहे थे कि कोई रूल आड़े आ रहे हैं और कई बार उम्र की वजह से काफी रुकावटें आ रही थी जिन मांगों को लेकर आज वह सीएम जयराम ठाकुर से मिलने पहुंचे हैं। वहीं, सीएम जयराम ठाकुर की तरफ से उन्हें आश्वासन दिया गया है कि इसके बारे में जल्द ही कोई निर्णय लिया जाएगा।

Comments: