9 दिसम्बर को प्राइवेट स्कूलों की फीसों के खिलाफ होगा शिक्षा निदेशालय का घेराव

हिमाचल में प्राइवेट स्कूलों को पूरी फीस वसूलने के फैसले के खिलाफ छात्र अभिभावक मंच ने प्राइवेट स्कूलों के खिलाफ आंदोलन करने का निर्णय लिया है। मंच का मानना है कि प्राइवेट स्कूलों के पक्ष में दिया यह फैसला सही नही है। जिसको लेकर मंच ने 9 दिसम्बर को शिक्षा निदेशालय और सरकार के खिलाफ आंदोलन किया जाएगा। इसी आंदोलन को लेकर 9 दिसम्बर को शिक्षा निदेशालय के घेराव करने के लिए अभिभावकों से आवाहन किया है।

मंच के संयोजक विजेंद्र मेहरा ने सभी अभिभावकों से 9 दिसंबर को आंदोलन में शामिल होने की अपील की है। उनके साथ सहसंयोजक बिंदु जोशी, सदस्य फालमा चौहान, विवेक कश्यप, प्रकाश रावत, जय चंद, राकेश रॉकी, मीनाक्षी कश्यप आदि उपस्थित थे। उन्होंने अपील की है कि सभी अभिभावक सभी चार्जेज का बहिष्कार करें।

उन्होंने हैरानी जताई कि अभिभावकों को मोबाइल संदेश भेजकर उन पर सभी तरह के चार्ज जमा करने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। इन संदेशों में बच्चों को ऑनलाइन क्लास से बाहर करने व उन्हें वार्षिक परीक्षाएं देने से रोकने की धमकियां दी जा रही हैं, लेकिन सरकार व शिक्षा विभाग मौन हैं। सरकार संविधान की रक्षा करने में भी विफल है, क्योंकि संविधान का अनुच्छेद 39(एफ) छात्रों की ऐसी मानसिक प्रताड़ना पर रोक लगाता है। 

विजेंद्र मेहरा ने उच्च न्यायालय से फीस वसूली के मुद्दे पर हस्तक्षेप की मांग की है। कहा कि उच्च न्यायालय ने भी अपने आदेश में कहीं भी इस बात का जिक्र नहीं किया है कि निजी स्कूल ट्रांसपोर्टेशन चार्ज सहित सभी तरह के चार्ज वसूल सकते हैं। उच्च शिक्षा निदेशक ने भी किसी भी अधिसूचना में पूर्ण फीस वसूली का आदेश नहीं दिया है। बावजूद इसके निजी स्कूल पूरी फीस वसूली को लेकर मोबाइल संदेश भेजकर अभिभावकों को प्रताड़ित कर रहे हैं।

Please Share this news:
error: Content is protected !!