हिमाचल में महज 24 घंटों में बारिश से 198 सडकें अवरूद्ध, लोक निर्माण विभाग के 544 करोड़ डूबे

हिमाचलप्रदेश के अलग-अलग क्षेत्रों में बीते 24 घंटे से हो रही बारिश के कारण 198 सड़कों पर वाहनों की आवाजाही थम गई है। इससे 100 से अधिक रूटों पर शुक्रवार को बस सेवाएं भी बाधित रहीं।

इस कारण लोगों को आवाजाही में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। मंडी जिले में सबसे ज्यादा 142 सड़कों पर यातायात बाधित हुआ है। हमीरपुर जिले की 36 और शिमला की 13 सड़कें भी जगह-जगह भूस्खलन के कारण बंद हैं। बारिश के कारण प्रदेशभर में शुक्रवार को 18 गऊशालाओं, मंडी में 9 कच्चे मकानों, हमीरपुर में 3 और कांगड़ा में 1 कच्चे मकान को आंशिक क्षति हुई है जबकि हमीरपुर में 3 पक्के मकान पूरी तरह क्षतिग्रस्त हुए है। इसी के साथ बरसात से सरकारी व गैर-सरकारी संपत्ति को नुक्सान का आंकड़ा बढ़कर 904.90 करोड़ पहुंच गया है। पीडब्ल्यूडी की सबसे ज्यादा 544.12 करोड़ व जल शक्ति विभाग की 250.06 करोड़ की संपत्ति को नुक्सान पहुंचा है। भारी बारिश और भूस्खलन से किसानों की 45.65 करोड़ की कृषि उपज और 28.87 करोड़ की उद्यान उपज भी तबाह हुई है।

28 से 1 सितम्बर तक यैलो अलर्ट जारी

प्रदेश के अधिकतर क्षेत्रों में शुक्रवार दोपहर बाद बारिश दर्ज की गई, वहीं मंडी जिले में दोपहर बाद सबसे अधिक बारिश दर्ज की गई जिससे यातायात अवरुद्ध हो गया। शिमला व इसके आसपास के क्षेत्रों में शाम के समय हल्की बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग की मानें तो आगामी 28 से 1 सितम्बर तक यैलो अलर्ट जारी किया है। मौसम विज्ञान के अनुसार प्रदेश के मैदानी जिलों कांगड़ा, बिलासपुर व हमीरपुर और मध्य पर्वतीय क्षेत्र शिमला, सिरमौर, चम्बा, ऊना, मंडी व कुल्लू के कई भागों में आगामी 4 दिनों तक बारिश होने की संभावना है, वहीं 2 सितम्बर तक पूरे प्रदेश में मौसम खराब रहने का पूर्वानुमान है। मौसम विभाग ने प्रदेश के अधिकतर क्षेत्रों में भारी बारिश से भूस्खलन होने की संभावना भी जताई है, वहीं सैलानियों व स्थानीय लोगों से नदी और नालों से दूर रहने की अपील की गई है। बीती रात को ऊना जिले के बंगाणा में 107, गोहर मंडी 72, गुलेर कांगड़ा 56, सुंदरनगर 20, पालमपुर 26.2, कांगड़ा 22.4, डल्हौजी 14, धर्मशाला 8.4, बिलासपुर 6, मंडी 3.5 और जुब्बड़हट्टी में 1.6 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है।

एक सप्ताह में सामान्य से एक फीसदी ज्यादा बारिश

मानसून सीजन के तहत अभी भी प्रदेश में सामान्य से 20 फीसदी कम बारिश हुई है। प्रदेश में बीते एक सप्ताह के दौरान सामान्य से एक फीसदी अधिक बारिश रिकॉर्ड हुई है। 20 से 26 अगस्त तक प्रदेश में 51 मिलीमीटर बारिश दर्ज हुई। शिमला, मंडी, कुल्लू, बिलासपुर और सोलन जिले में सामान्य से अधिक बारिश हुई। इसके अलावा हमीरपुर और किन्नौर में सामान्य तथा चम्बा, कांगड़ा, सिरमौर, ऊना और लाहौल-स्पीति जिले में भी सामान्य से कम बारिश हुई।

error: Content is protected !!