प्रदेश में अनुसूचित जाति के विकास कार्यक्रम के लिए खर्च होंगे 157 करोड़- महेंद्र सिंह

मंडी : जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने अनुसूचित जाति उपयोजना की बैठक की अध्यक्षता करते हुए बताया कि मंडी जिले में अनुसूचित जाति विकास कार्यक्रम में चालू वित्त वर्ष में 157 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। यह राशि अनुसूचित जाति समुदाय के सामाजिक व आर्थिक विकास पर खर्च की जा रही है।

महेंद्र सिंह ठाकुर ने जिला कल्याण समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार ने वर्तमान में मंडी जिला के सामाजिक सुरक्षा पेंशन से जुड़े 37 हजार 888 से मामले को स्वीकृति दी है। जिला में अब कुल सामाजिक सुरक्षा पेंशन के दायरे में कुल 1 लाख 9 हजार 877 लोग हैं। इसके लिए 164 करोड़ रुपये व्यय किए जा रहे हैं।

जलशक्ति मंत्री ने बताया कि प्रदेश सरकार ने 65 से 69 आयु वर्ग की महिलाओं को सामाजिक सुरक्षा पेंशन के दायरे में लाने के लिए स्वर्ण जयंती नारी संबल योजना शुरू की है। इसमें पात्र महिलाओं को बिना आय सीमा की शर्त के 1000 रुपये प्रति माह पेंशन का प्रावधान किया गया है। इससे प्रदेश की करीब 60 हजार महिलाओ को लाभ पहुंचेगा।

स्वर्ण जयंती आश्रय योजना में 979 पात्र लोगो को 134 करोड़ स्वर्ण जयंती आश्रय योजना के तहत बीते साढ़े 3 सालों में जिला में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग के 979 पात्र व्यक्तियों को नया मकान बनाने के लिए 134 करोड़ रुपये राशि स्वीकृत कि गई है। 2021-22 में इस योजना के तहत 194 नए मकान बनाने का लक्ष्य रखा गया है।

बैठक में कल्याण विभाग की विभिन्न योजनाओं के तहत बजट का अनुमोदन किया गया। उपायुक्त अरिदम चौधरी ने समिति अध्यक्ष व सदस्यों का स्वागत करते हुए समिति के सभी निर्देशों को सही तरीके से लागू करने का भरोसा दिलाया। जिला कल्याण अधिकारी आरसी बंसल ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया।

error: Content is protected !!